कानूनी तौर पर लड़का-लड़की के लिए बराबर होनी चाहिए शादी की उम्र? यहां उठी आवाज़

कानूनी तौर पर लड़का-लड़की के लिए बराबर होनी चाहिए शादी की उम्र? यहां उठी आवाज़

indian wedding

नई दिल्ली/भाषा। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) की एक सदस्य ने बुधवार को कहा कि विवाह के लिए लड़का-लड़की दोनों की कानूनी उम्र एक समान होनी चाहिए। बाल विवाह पर राष्ट्रीय सम्मेलन में वक्ताओं ने कानूनी उम्र सीमा से कम आयु में विवाह की बुराई पर सख्त कानून की जरूरत पर जोर दिया।

आयोग की सदस्य ज्योतिका कालरा ने कहा कि विवाह की एक समान आयु तय करने के लिए एक कानून बनाए जाने की जरूरत है, जो उच्चतम न्यायालय और विधि आयोग सहित उच्चतम स्तर पर जाहिर किए गए विचारों के अनुरूप हो।

उन्होंने कहा कि विवाह की कानूनी उम्र लड़कों के लिए 21 साल और लड़कियों के लिए 18 साल नहीं होनी चाहिए क्योंकि इस अंतर का समर्थन करने के लिए कोई वैज्ञानिक आंकड़ा नहीं है। यह विसंगति बच्चों और उनके विवाह को प्रभावित कर रही है।

कालरा ने कहा कि विवाह का पंजीकरण अनिवार्य बनाया जाना चाहिए। उच्चतम न्यायालय और विधि आयोग ने इस बात का जिक्र किया है लेकिन यदि यह स्पष्ट नहीं है तो सभी राज्यों ने आवश्यक प्रावधान किए हैं।

उन्होंने कहा कि भारत में बाल विवाह सामाजिक-आर्थिक कारकों, खासतौर पर साक्षरता के अभाव से जुड़ा हुआ है। आयोग के महासचिव अंबुज शर्मा ने कहा कि यह शर्म का विषय है कि भारत में बाल विवाह की दर बहुत अधिक है।

इस सम्मेलन का आयोजन एनएचआरसी ने साउथ एशिया इनिशएटिव टू इंड वायलेंस अगेंस्ट चिल्ड्रेन (एसएआईईवीएसी) के सहयोग से किया है।

ये भी पढ़िए:
– कल्लू के साथ भोजपुरी की इस एक्ट्रेस के डांस ने किया कमाल, खूब देखा जा रहा यह वीडियो
– मामूली-सी लगने वाली ये चीजें करती हैं खून को साफ, इनका सेवन रखेगा हमेशा तंदुरुस्त
– रात को घंटी बजी, दरवाजा खोला और महिला पत्रकार का गला काटकर भाग गए हत्यारे
– घरेलू नौकर या ड्राइवर रखने से पहले हासिल करें यह खास जानकारी वरना पड़ सकता है पछताना

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

आज सब्जी बेचने वाला भी डिजिटल पेमेंट लेता है, यह बदलता भारत है: नड्डा आज सब्जी बेचने वाला भी डिजिटल पेमेंट लेता है, यह बदलता भारत है: नड्डा
नड्डा ने कहा कि लालू यादव, तेजस्वी और राहुल गांधी कहते थे कि भारत तो अनपढ़ देश है, गांव में...
राजकोट: गेमिंग जोन में आग मामले में अब तक पुलिस ने क्या कार्रवाई की?
पीओके भारत का है, उसे लेकर रहेंगे: शाह
जैन मिशन अस्पताल द्वारा महिलाओं के लिए निःशुल्क सर्वाइकल कैंसर और स्तन जांच शिविर 17 जून तक
राजकोट: गुजरात उच्च न्यायालय ने अग्निकांड का स्वत: संज्ञान लिया, इसे मानव निर्मित आपदा बताया
इंडि गठबंधन वालों को देश 'अच्छी तरह' जान गया है: मोदी
चक्रवात 'रेमल' के बारे में आई यह बड़ी खबर, यहां रहेगा ज़बर्दस्त असर