मनमोहन, अंसारी के विरूद्ध देशद्रोह का मुकदमा दर्ज हो : अग्रवाल

मनमोहन, अंसारी के विरूद्ध देशद्रोह का मुकदमा दर्ज हो : अग्रवाल

नई दिल्ली। पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की मौजूदगी में कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर के निवास पर पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री खुर्शीद महमूद कसूरी और पाकिस्तान के उच्चायुक्त सोहैल महमूद की बैठक होने की बात का खुलासा करने वाले जाने माने वकील एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता अजय अग्रवाल ने गुरुवार को दावा किया कि उस बैठक में प्रधानमंत्री के खिलाफ साजिश रची गयी थी और इसके लिये डॉ. सिंह और श्री अंसारी के विरुद्ध देशद्रोह का मुकदमा दर्ज करके जांच की जानी चाहिए। अग्रवाल ने छह दिसंबर की रात को राजधानी के जंगपुरा क्षेत्र में अपने प़डोस में स्थित श्री अय्यर के आवास पर हुई यह बैठक होने की जानकारी सबसे पहले सार्वजनिक की थी और उन्होंने राष्ट्रीय जांच एजेंसी को बाकायदा एक पत्र लिख कर इस बैठक के आयोजन एवं उसमें हुई बातचीत की जांच करने और श्री अय्यर एवं अन्य नेताओं के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा १२४ के तहत मुकदमा दर्ज करने की मांग की है। अग्रवाल ने दावा किया कि उस बैठक में गुजरात चुनाव को लेकर कुछ योजना बनी थी और उसी के तहत श्री अय्यर ने अगले दिन सुबह मीडिया को बुलाकर श्री मोदी को ’’नीच किस्म का आदमी’’ कहा था। उन्होंने कहा कि श्री मोदी को ’’नीच किस्म का आदमी’’ कहने के लिये श्री अय्यर के मुंह का इस्तेमाल किया गया था। दरअसल यह डॉ. सिंह, अंसारी, पाकिस्तानी नेता एवं उच्चायुक्त और कांग्रेस पार्टी के ब़डे नेताओं की देश के सबसे लोकप्रिय प्रधानमंत्री के विरुद्ध सामूहिक दुर्भावना है। इसके लिये कांग्रेस के नेतृत्व को देश से माफी मांगनी चाहिए। इसकी बजाए वह उल्टे प्रधानमंत्री से माफी मांगने की बात कह रही है। यह उल्टा चोर कोतवाल को डांटे वाली बात है।उन्होंने बताया कि अय्यर जंगपुरा एक्सटेंशन के मकान नंबर जी-४३ में रहते हैं जबकि उनका घर एफ-१ है। छह दिसंबर की देर शाम को उन्होंने देखा कि पूर्व उपराष्ट्रपति अंसारी, पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. सिंह, पाकिस्तान के उच्चायुक्त, श्री कसूरी एवं अन्य गणमान्य लोग श्री अय्यर के निवास पर आये थे और वहां भारी सुरक्षा इंत़जाम थे। पाकिस्तानी उच्चायुक्त की कार उनके आवास के पीछे वाले हिस्से में ख़डी थी। वहां पुलिस एवं अन्य सुरक्षा बलों का जमाव़डा था। उन्होंने पुलिसकर्मियों से पूछा तो उन्होंने बताया कि कोई मीटिंग चल रही है। उन्होंने इसे सामान्य रूप में लिया और अपने गंतव्य चले गये। वह जब देर रात घर लौटे तो देखा कि अय्यर के घर वह मीटिंग जारी थी। उन्हें तब तो कुछ भी असहज नहीं लगा लेकिन जब अगले दिन अय्यर ने मीडिया को बुलाकर श्री मोदी के विरुद्ध ़जहरीली टिप्पणी की तो वह हतप्रभ रहे गए। अग्रवाल ने कहा कि गुजरात में पहले चरण के मतदान के ठीक दो दिन पहले सात दिसंबर को श्री अय्यर का ऐसा बोलना और पूर्व उपराष्ट्रपति एवं पूर्व प्रधानमंत्री का प्रोटोकॉल तो़ड कर अय्यर के निवास पर पाकिस्तानी उच्चायुक्त से मिलना कोई अलग अलग बातें नहीं थीं। उस बैठक में इस बारे में बात हुई थी। कांग्रेस नेताओं ने कहा है कि वह बैठक भारत पाकिस्तान संबंधों पर हुई थी। अगर ऐसा था तो विदेश मंत्रालय एवं गृह मंत्रालय को सूचना क्यों नहीं दी गयी थी जो कि ऐसे मामलों में अनिवार्य होता है। उन्होंने कहा कि सवाल यह है कि क्या यह केवल लापरवाही का मामला है या विशेष प्रयोजन के लिए जानबूझ कर किया गया कृत्य। आ़जाद भारत के इतिहास में ऐसा कभी नहीं सुना गया कि भारत सरकार के दो शीर्ष पदाधिकारी रहे राजनेताओं ने इस प्रकार की गुप्त बैठकें कीं। उन्होंने कहा कि अगर ऐसा नहीं होता तो मीडिया में खबरें आने के बाद भी श्री अंसारी या डॉ. सिंह की ओर से बैठक के बारे में भारत सरकार को कोई लिखित नोट भेजा जाता। विदेश मंत्रालय कह चुका है कि यह बैठक किसी ट्रैक-२ कूटनीति का हिस्सा भी नहीं थी। इसलिए इस बैठक का निश्चय ही कोई खास मकसद था जो देशहित के विपरीत और संदेहास्पद था। अग्रवाल ने कहा कि देश की पूर्ण बहुमत से निर्वाचित लोकप्रिय सरकार एवं प्रधानमंत्री के विरुद्ध बेहद घृणित बयान देने और ऐसी साजिशें रचने वाले लोगों के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा १२४ (ए) के तहत मुकदमा दर्ज किया जाना चाहिए और एनआईए को गहन जांच करके पता लगाना चाहिए कि उस बैठक में वास्तव में क्या साजिश रची गयी थी।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

अंजलि हत्याकांड: कर्नाटक के गृह मंत्री ने परिवार को इन्साफ मिलने का भरोसा दिलाया अंजलि हत्याकांड: कर्नाटक के गृह मंत्री ने परिवार को इन्साफ मिलने का भरोसा दिलाया
Photo: DrGParameshwara FB page
तृणकां-कांग्रेस मिलकर घुसपैठियों के कब्जे को कानूनी बनाना चाहती हैं: मोदी
अहमदाबाद: आईएसआईएस के 4 'आतंकवादियों' की गिरफ्तारी के बारे में गुजरात डीजीपी ने दी यह जानकारी
5 महीने चलीं उन फांसियों का रईसी से भी था गहरा संबंध! इजराइली मीडिया ने ​फिर किया जिक्र
ईरानी राष्ट्रपति का निधन, अब कौन संभालेगा मुल्क की बागडोर, कितने दिनों में होगा चुनाव?
बेंगलूरु में रेव पार्टी: केंद्रीय अपराध शाखा ने छापेमारी की तो मिलीं ये चीजें!
ओडिशा को विकास की रफ्तार चाहिए, यह बीजद की ढीली-ढाली नीतियों वाली सरकार नहीं दे सकती: मोदी