विजय विहार आश्रम से 41 लड़कियां छुड़ाई गईं

विजय विहार आश्रम से 41 लड़कियां छुड़ाई गईं

नई दिल्ली। दिल्ली के विजय विहार स्थित आध्यात्मिक विश्वविद्यालय में शुक्रवार को तीसरे दिन की छापेमारी के बाद महिला आयोग और पुलिस टीम ने बंधक बनाकर रखी गयीं ४१ नाबालिग ल़डकियों को सुरक्षित बाहर निकाला। पुलिस सूत्रों ने बताया कि पाखंडी बाबा वीरेंद्र देव दीक्षित के आश्रम पर तीसरे दिन भी जांच जारी है। आश्रम में अभी भी एक सौ से अधिक ल़डकियां तथा महिलाएं हैं जिन्होंने बाहर आने से इन्कार कर दिया है। आश्रम का संचालक अभी भी फरार है। सूत्रों का कहना है कि पुलिस तथा दिल्ली महिला आयोग की टीम कल सुबह फिर आश्रम पर छापेमारी करने पहुंची। इस दौरान आश्रम के लोगों से कमरे की चाबियां मांगी गयीं लेकिन उन्होंने मना कर दिया। आखिर पुलिस टीम ने एक-एक कर करीब १४ दरवाजों के ताले तो़डे और पुलिस ने यहां से ४१ नाबालिग ल़डकियों को बाहर निकाला।दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा कि आश्रम में जो भी महिलाएं हैं, सभी को यहां से निकालकर नारी निकेतन में रखा जाना चाहिए। सभी की काउंसिलिंग करवाई जाए, तभी सच्चाई सामने आएगी। पुलिस को आशंका है कि आश्रम के लोगों ने कई ल़डकियों को यहां से हटा दिया है। उल्लेखनीय है कि उच्च न्यायालय के आदेश के बाद मंगलवार को एक विशेष दल ने आध्यात्मिक विश्वविद्यालय में छापेमारी की थी। इस दल में दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल भी शामिल थीं। पुलिस सूत्रों का कहना है कि आश्रम में महिलाओं का शारीरिक तथा मानसिक शोषण होता था। कमरे से कई प्रतिबंधित दवाइयां और आपत्तिजनक वस्तुएं बरामद की गईं। विश्वविद्यालय के अनुयायियों का कहना है कि बाबा वीरेंद्र देव दीक्षित के शरण में आने वालों को अध्यात्म का ज्ञान दिया जाता था। गौरतलब है कि विजय विहार इलाके में आश्रम पिछले करीब तीन दशक से चल रहा है। यहां रहने वाले स्थानीय निवासियों ने बताया कि इस आश्रम के सभी दरवाजे हमेशा बंद ही रहते हैं।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

सपा-कांग्रेस के 'शहजादों' को अपने परिवार के आगे कुछ भी नहीं दिखता: मोदी सपा-कांग्रेस के 'शहजादों' को अपने परिवार के आगे कुछ भी नहीं दिखता: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि सपा सरकार में माफिया गरीबों की जमीनों पर कब्जा करता था
केजरीवाल का शाह से सवाल- क्या दिल्ली के लोग पाकिस्तानी हैं?
किसी युवा को परिवार छोड़कर अन्य राज्य में न जाना पड़े, ऐसा ओडिशा बनाना चाहते हैं: शाह
बेंगलूरु हवाईअड्डे ने वाहन प्रवेश शुल्क संबंधी फैसला वापस लिया
जो काम 10 वर्षों में हुआ, उससे ज्यादा अगले पांच वर्षों में होगा: मोदी
रईसी के बाद ईरान की बागडोर संभालने वाले मोखबर कौन हैं, कब तक पद पर रहेंगे?
'न चुनाव प्रचार किया, न वोट डाला' ... भाजपा ने इन वरिष्ठ नेता को दिया 'कारण बताओ' नोटिस