वंदे मातरम गायन में परेशानी क्यों होनी चाहिए? : नायडू

वंदे मातरम गायन में परेशानी क्यों होनी चाहिए? : नायडू

शिरडी (महाराष्ट्र)। उपराष्ट्रपति एम.वेंकैया नायडू ने शनिवार को आश्चर्य जताया कि किसी को राष्ट्रीय गीत वंदे मातरम गाने में परेशानी क्यों होनी चाहिए? उन्होंने कहा कि इस गीत का मतलब मां का अभिवादन करना है और इस गीत ने देश के स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान लाखों लोगों को प्रेरित किया था। नायडू ने अहमदनगर जिले में मंदिरों के इस नगर में कहा, मां तस्वीर नहीं है बल्कि हमारी मातृभूमि है। वंदेमातरम में मां को सलाम किया जाता है। इसे लेकर किसी को कोई समस्या क्यों होनी चाहिए? शिरडी साईबाबा संस्थान द्वारा आयोजित ग्लोबल साईं मंदिर ट्रस्ट सम्मेलन का उद्घाटन करने के बाद नायडू ने कहा, हमारी जाति, पंथ और धर्म के बावजूद हम एक राष्ट्र, एक व्यक्ति और एक देश है। उन्होंने यह भी कहा कि २०वीं सदी के संत साईंबाबा के हिन्दू या मुसलमान होने का मुद्दा अनावश्यक है। उपराष्ट्रपति ने कहा, वह एक सार्वभौमिक शिक्षक थे जो हिंदू धर्म और सूफीवाद के महत्वपूर्ण सिद्धांतों का मिश्रण थे। उन्होंने कहा कि मानवता की सेवा और अन्य लोगों के साथ शांति और सद्भाव के साथ रहने की साईंबाबा की शिक्षाओं को सभी लोगों द्वारा अपनाए जाने की जरूरत है जो उन्हें (साईंबाबा) सच्ची श्रद्धांजलि होगी। उन्होंने कहा, मानवता की सेवा ईश्वर की सेवा है।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

मोदी का रॉक मेमोरियल दौरा: भाजपा बोली- 'विपक्ष घबराया हुआ, उसे हार का डर' मोदी का रॉक मेमोरियल दौरा: भाजपा बोली- 'विपक्ष घबराया हुआ, उसे हार का डर'
इस स्थान पर महान संत एवं दार्शनिक स्वामी विवेकानंदजी ने ध्यान लगाया था
धरती की परवाह किसे?
'भारतीय भाषाएं और एक भाषायी क्षेत्र के रूप में भारत' विषय पर सम्मेलन का उद्घाटन किया
मैसूरु: दपरे महाप्रबंधक ने मैसूरु रेलवे स्टेशन के पुनर्विकास कार्यों का निरीक्षण किया
राहुल गांधी 4 जून को ईवीएम पर ठीकरा फोड़ेंगे, 6 जून को छुट्टी मनाने थाईलैंड चले जाएंगे: शाह
प्रज्ज्वल मामला: सीएन अश्वत्थ नारायण बोले- इस एसआईटी से सच्चाई सामने लाने की उम्मीद नहीं
तृणकां और इंडि जमात वाले बंगाल को विपरीत दिशा में लेकर जा रहे हैं: मोदी