बंगाल की सिर्फ 30 प्रतिशत आबादी के हितों के प्रति संवेदनशील हैं ममता बनर्जीः विजयवर्गीय

बंगाल की सिर्फ 30 प्रतिशत आबादी के हितों के प्रति संवेदनशील हैं ममता बनर्जीः विजयवर्गीय

बंगाल की सिर्फ 30 प्रतिशत आबादी के हितों के प्रति संवेदनशील हैं ममता बनर्जीः विजयवर्गीय

भाजपा के वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय। फोटो स्रोतः फेसबुक पेज।

कोलकाता/भाषा। भाजपा के वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय ने रविवार को दावा किया कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में ‘जय श्रीराम’ का नारा लगने के बाद भाषण देने से इंकार कर दिया क्योंकि वे जनता के एक हिस्से का तुष्टिकरण करना चाहती हैं।

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव विजयवर्गीय ने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री राज्य की नौ करोड़ जनता में से महज 30 फीसदी लोगों की जरूरतों और हितों के प्रति संवेदनशील हैं।

उन्होंने जलपाईगुड़ी में पत्रकारों से कहा, ‘जय श्रीराम, लोगों के साथ दुआ-सलाम करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आने पर और नेताजी अनुसंधान ब्यूरो से उनके प्रस्थान करने के दौरान यह नारा लगाया गया। ममता दीदी ने अपमानित क्यों महसूस किया? जय श्रीराम या भारत माता की जय सुनकर वह क्यों नाखुश हो गईं?’

बनर्जी का यह कदम ‘राज्य के 30 प्रतिशत मतदाताओं की तुष्टिकरण के लिए होने’ की बात पर जोर देते हुए भाजपा के पश्चिम बंगाल प्रभारी विजयवर्गीय ने कहा, ‘शेष 70 प्रतिशत आबादी के लिए हमेशा अनदेखी की जाती रही है।’ भाजपा नेता ने कहा, ‘अगले चुनाव में बंगाल की जनता उन्हें उचित जवाब देगी।’

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

सपा-कांग्रेस के 'शहजादों' को अपने परिवार के आगे कुछ भी नहीं दिखता: मोदी सपा-कांग्रेस के 'शहजादों' को अपने परिवार के आगे कुछ भी नहीं दिखता: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि सपा सरकार में माफिया गरीबों की जमीनों पर कब्जा करता था
केजरीवाल का शाह से सवाल- क्या दिल्ली के लोग पाकिस्तानी हैं?
किसी युवा को परिवार छोड़कर अन्य राज्य में न जाना पड़े, ऐसा ओडिशा बनाना चाहते हैं: शाह
बेंगलूरु हवाईअड्डे ने वाहन प्रवेश शुल्क संबंधी फैसला वापस लिया
जो काम 10 वर्षों में हुआ, उससे ज्यादा अगले पांच वर्षों में होगा: मोदी
रईसी के बाद ईरान की बागडोर संभालने वाले मोखबर कौन हैं, कब तक पद पर रहेंगे?
'न चुनाव प्रचार किया, न वोट डाला' ... भाजपा ने इन वरिष्ठ नेता को दिया 'कारण बताओ' नोटिस