साध्वी प्रज्ञा ने गोडसे को बताया देशभक्त तो भाजपा ने की निंदा, कहा- माफी मांगें

साध्वी प्रज्ञा ने गोडसे को बताया देशभक्त तो भाजपा ने की निंदा, कहा- माफी मांगें

साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर

भोपाल/दक्षिण भारत। मध्य प्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के एक बयान के बाद गोडसे को लेकर चल रहा विवाद नया मोड़ ले सकता है। दरअसल अभिनेता से नेता बने कमल हासन द्वारा गोडसे का जिक्र कर ‘हिंदू आतंकवादी’ के बयान पर साध्वी प्रज्ञा ने प्रतिक्रिया दी।

इस दौरान उन्होंने कहा कि नाथूराम गोडसे देशभक्त थे, हैं और रहेंगे। साध्वी प्रज्ञा ने कहा कि उनको (गोडसे) आतंकवादी कहने वाले लोग स्वयं के गिरेबान में झांक कर देखें। ऐसा बोलने वालो को इस चुनाव में जवाब दे दिया जाएगा।

इस बयान के बाद काफी लोगों ने ऐतराज जताया। भाजपा ने भी इस बयान की निंदा की है। पार्टी प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्हा राव ने कहा कि साध्वी प्रज्ञा के बयान से भाजपा सहमत नहीं है। हम इसकी कड़ी निंदा करते हैं। इस मामले में पार्टी साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर से स्पष्टीकरण मांगेगी। उनको अपने इस बयान के लिए सार्वजनिक रूप से माफी मांगनी चाहिए।

बता दें कि साध्वी प्रज्ञा चुनाव प्रचार में व्यस्त हैं। वे आगर मालवा में रोड शो में पहुंची थीं। उसी दौरान उनसे गोडसे को लेकर सवाल पूछा गया। लोकसभा चुनावों में गोडसे और कथित ‘हिंदू आतंकवाद’ का मुद्दा कमल हासन की एक जनसभा के बाद गरमाया था। उन्होंने कहा, मैं ऐसा इसलिए नहीं बोल रहा हूं कि यह मुस्लिम बहुल इलाका है, बल्कि मैं यह बात गांधी की प्रतिमा के सामने बोल रहा हूं। आजाद भारत का पहला आतंकवादी हिंदू था और उसका नाम नाथूराम गोडसे है। वहीं से इसकी (आतंकवाद) शुरुआत हुई।

देश-दुनिया की हर ख़बर से जुड़ी जानकारी पाएं FaceBook पर, अभी LIKE करें हमारा पेज.

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

अंजलि हत्याकांड: कर्नाटक के गृह मंत्री ने परिवार को इन्साफ मिलने का भरोसा दिलाया अंजलि हत्याकांड: कर्नाटक के गृह मंत्री ने परिवार को इन्साफ मिलने का भरोसा दिलाया
Photo: DrGParameshwara FB page
तृणकां-कांग्रेस मिलकर घुसपैठियों के कब्जे को कानूनी बनाना चाहती हैं: मोदी
अहमदाबाद: आईएसआईएस के 4 'आतंकवादियों' की गिरफ्तारी के बारे में गुजरात डीजीपी ने दी यह जानकारी
5 महीने चलीं उन फांसियों का रईसी से भी था गहरा संबंध! इजराइली मीडिया ने ​फिर किया जिक्र
ईरानी राष्ट्रपति का निधन, अब कौन संभालेगा मुल्क की बागडोर, कितने दिनों में होगा चुनाव?
बेंगलूरु में रेव पार्टी: केंद्रीय अपराध शाखा ने छापेमारी की तो मिलीं ये चीजें!
ओडिशा को विकास की रफ्तार चाहिए, यह बीजद की ढीली-ढाली नीतियों वाली सरकार नहीं दे सकती: मोदी