भारत के इस मित्र देश में जन्म दर में आई बड़ी गिरावट, सरकार शुरू करेगी डेटिंग ऐप

पिछले वर्ष इस देश की जन्म दर 1.20 थी, जो जनसंख्या को बनाए रखने के लिए आवश्यक 2.1 बच्चों की दर से काफी कम है

भारत के इस मित्र देश में जन्म दर में आई बड़ी गिरावट, सरकार शुरू करेगी डेटिंग ऐप

Photo: PixaBay

टोक्यो/दक्षिण भारत। तकनीक के क्षेत्र में नए कीर्तिमान रचने वाला देश जापान अपने यहां जन्म दर में भारी गिरावट का सामना कर रहा है। उसके स्वास्थ्य मंत्रालय ने देश में जन्म दर में भारी गिरावट को 'गंभीर' बताया है। वहां यह लगातार आठवें वर्ष रिकॉर्ड निम्न स्तर पर पहुंच गई है। 

जापानी स्वास्थ्य मंत्रालय ने जो आंकड़े जारी किए, उनसे पता चलता है कि पिछले वर्ष इस देश की जन्म दर 1.20 थी, जो जनसंख्या को बनाए रखने के लिए आवश्यक 2.1 बच्चों की दर से काफी कम है।

यह आंकड़ा साल 2022 के 1.26 से कम था और 124 मिलियन लोगों के देश में यह लगातार आठवीं वार्षिक गिरावट थी। स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि जन्म दर में निरंतर गिरावट एक गंभीर स्थिति है।

उन्होंने कहा कि आर्थिक अस्थिरता और काम तथा बच्चों के पालन-पोषण में संतुलन बनाने में कठिनाई जैसे विभिन्न कारकों को गिरते आंकड़ों के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है।

बता दें कि विकसित देशों में जन्म दर में गिरावट एक सामान्य प्रवृत्ति है। जापान की दर अभी भी अपने पड़ोसी दक्षिण कोरिया से अधिक है, जहां जन्म दर विश्व में सबसे कम 0.72 है।

हालांकि, मोनाको के बाद दुनिया की सबसे बुजुर्ग आबादी वाले देश के रूप में जापान आसन्न जनसांख्यिकीय संकट को टालने के लिए बच्चों की संख्या में वृद्धि को प्रोत्साहित करने के तरीके खोज रहा है।

जन्म दर को बढ़ाने के लिए जापान की पहलों में टोक्यो नगर सरकार द्वारा विकसित एक डेटिंग ऐप भी शामिल है, जिसे इस गर्मियों में लॉन्च किया जाएगा।

यूजर्स को यह साबित करने के लिए दस्तावेज पेश करने होंगे कि वे कानूनी रूप से अविवाहित हैं तथा एक पत्र पर हस्ताक्षर करने होंगे, जिसमें यह उल्लेख हो कि वे विवाह करने के इच्छुक हैं।

जापानी डेटिंग ऐप्स पर अपनी आमदनी बताना आम बात है, लेकिन टोक्यो में आवेदक के वार्षिक वेतन को साबित करने के लिए टैक्स सर्टिफिकेट स्लिप की जरूरत होगी।

ऐप के लिए पंजीकरण प्रक्रिया के एक भाग के रूप में यूजर्स की पहचान की पुष्टि के लिए इंटरव्यू की भी जरूरत होगी, जिसका पिछले वर्ष के अंत से निःशुल्क परीक्षण चल रहा है।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

जमीन से जुड़ाव जरूरी जमीन से जुड़ाव जरूरी
कम-से-कम अगले लोकसभा चुनाव तक तो इनकी चर्चा जारी रहेगी
'हिंदी के साथ हमारे स्वाभिमान और राष्ट्रीय एकता का जुड़ाव है'
यूक्रेन को मिलेगी राहत? शांतिवार्ता के लिए पुतिन ने रखीं ये शर्तें
बीएचईएल को थर्मल पावर प्लांट के लिए दो बैक-टू-बैक ऑर्डर मिले
जी-7 शिखर सम्मेलन: मैक्रों समेत इन नेताओं से मिले मोदी, कई मुद्दों पर हुई चर्चा
येडियुरप्पा के खिलाफ गैर-जमानती वारंट पर बोले कुमारस्वामी- पिछले 4 महीनों में पुलिस विभाग क्या कर रहा था?
ऐसा मैसेज आए तो रहें सावधान, यहां सॉफ्टवेयर इंजीनियर और उसके परिवार ने गंवा दिए 5.14 करोड़ रु.