एनआईए ने पंजाब में गोल्डी बराड़ के सहयोगियों से जुड़े कई ठिकानों पर छापे मारे

बराड़ और उसके सहयोगियों से जुड़े कुल नौ स्थानों की तलाशी ली गई

एनआईए ने पंजाब में गोल्डी बराड़ के सहयोगियों से जुड़े कई ठिकानों पर छापे मारे

Photo: NIA

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने जबरन वसूली और गोलीबारी के एक मामले की जांच के तहत गुरुवार को पंजाब में, कनाडा स्थित आतंकवादी गोल्डी बराड़ के सहयोगियों से जुड़े विभिन्न स्थानों पर छापेमारी की।

एक आधिकारिक बयान के अनुसार, आतंकवाद रोधी एजेंसी ने सतिंदरजीत सिंह उर्फ ​​गोल्डी बराड़ और उसके गिरोह के बारे में जानकारी के लिए लोगों से मदद भी मांगी है।

इसमें कहा गया है कि चंडीगढ़ में दर्ज जबरन वसूली और गोलीबारी के एक मामले के संबंध में एनआईए की टीमों ने बराड़ और उसके सहयोगियों से जुड़े कुल नौ स्थानों की तलाशी ली।

यह छापेमारी एनआईए द्वारा पिछले वर्ष जयपुर में करणी सेना प्रमुख सुखदेव सिंह गोगामेड़ी की हत्या में कथित संलिप्तता के लिए बराड़ और 11 अन्य के खिलाफ आरोप पत्र दायर करने के एक दिन बाद की गई है।

एनआईए ने टेलीफोन नंबर भी जारी किए हैं, जहां लोग आतंकवादी और उसके सहयोगियों के बारे में जानकारी या गिरोह से प्राप्त किसी भी धमकी भरे कॉल का विवरण साझा कर सकते हैं।

एनआईए की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि जानकारी लैंडलाइन नंबर 0172-2682901 या मोबाइल नंबर 7743002947 (टेलीग्राम/वॉट्सऐप के लिए) पर साझा की जा सकती है। इसमें कहा गया है कि सूचना देने वाले की पहचान गुप्त रखी जाएगी।

गुरुवार को की गई कार्रवाई चंडीगढ़ में एक पीड़ित के घर पर जबरन वसूली की मांग और गोलीबारी से संबंधित मामले में एनआईए की जांच का हिस्सा थी।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

जमीन से जुड़ाव जरूरी जमीन से जुड़ाव जरूरी
कम-से-कम अगले लोकसभा चुनाव तक तो इनकी चर्चा जारी रहेगी
'हिंदी के साथ हमारे स्वाभिमान और राष्ट्रीय एकता का जुड़ाव है'
यूक्रेन को मिलेगी राहत? शांतिवार्ता के लिए पुतिन ने रखीं ये शर्तें
बीएचईएल को थर्मल पावर प्लांट के लिए दो बैक-टू-बैक ऑर्डर मिले
जी-7 शिखर सम्मेलन: मैक्रों समेत इन नेताओं से मिले मोदी, कई मुद्दों पर हुई चर्चा
येडियुरप्पा के खिलाफ गैर-जमानती वारंट पर बोले कुमारस्वामी- पिछले 4 महीनों में पुलिस विभाग क्या कर रहा था?
ऐसा मैसेज आए तो रहें सावधान, यहां सॉफ्टवेयर इंजीनियर और उसके परिवार ने गंवा दिए 5.14 करोड़ रु.