पंजाब: कांग्रेस को बड़ा झटका, पूर्व मुख्यमंत्री के सांसद पोते रवनीत सिंह बिट्टू भाजपा में शामिल

बिट्टू पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह के पोते हैं, जिनकी एक आतंकवादी हमले में हत्या कर दी गई थी

पंजाब: कांग्रेस को बड़ा झटका, पूर्व मुख्यमंत्री के सांसद पोते रवनीत सिंह बिट्टू भाजपा में शामिल

Photo: BJP FB page video

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को एक और बड़ा झटका लगा है। पंजाब से तीन बार के कांग्रेस सांसद रवनीत सिंह बिट्टू भाजपा में शामिल हो गए हैं। उन्होंने कहा कि लोगों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फिर से सत्ता में लाने का मन बना लिया है।

बता दें कि बिट्टू पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह के पोते हैं, जिनकी एक आतंकवादी हमले में हत्या कर दी गई थी। वे पंजाब में आतंकवाद विरोधी अभियान का बड़ा नाम थे।

बिट्टू लुधियाना से लोकसभा सांसद हैं। उन्होंने भाजपा की सदस्यता ग्रहण करने के बाद कहा, 'मैं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभारी हूं। मैं विश्वास के साथ कह सकता हूं कि प्रधानमंत्री मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को पंजाब से बहुत प्यार है और वे राज्य के लिए बहुत कुछ करना चाहते हैं। 

कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल होने के सवाल रवनीत सिंह बिट्टू ने कहा, 'जब भी मैंने पंजाब के मुद्दे उठाए, प्रधानमंत्री और गृह मंत्री ने उन्हें हमेशा सकारात्मक रूप से लिया। हम पंजाब को आगे ले जाना चाहते हैं। पंजाब को पीछे क्यों रहना चाहिए?'

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

प्रधानमंत्री ने पूरे देश के सामने माना कि 'झूठे शराब घोटाले' में कोई सबूत नहीं हैं: केजरीवाल प्रधानमंत्री ने पूरे देश के सामने माना कि 'झूठे शराब घोटाले' में कोई सबूत नहीं हैं: केजरीवाल
Photo: @AamAadmiParty X account
उपमुख्यमंत्री और अन्य के खिलाफ आरोप लगाकर प्रज्ज्वल मामले को कमजोर कर रहे कुमारस्वामी: सिद्दरामैया
रईसी के हेलीकॉप्टर से नहीं मिले ये सबूत, जांच में हुए कई खुलासे
जहां गरीबी-संकट हों, नागरिक समस्याओं से घिरे हों ... कांग्रेस को ऐसा भारत पसंद है: मोदी
पाकिस्तान के खजाने पर बड़ी चोट, आतंकी हमले में मारे गए चीनियों के परिवारों को देगा इतना मुआवजा!
कर्नाटक: भाजपा ने सिद्दरामैया सरकार पर निशाना साधा, राजधानी को बताया- 'उड़ता बेंगलूरु'
प्रज्ज्वल रेवन्ना के नाम एचडी देवेगौड़ा के पत्र पर क्या बोले डीके शिवकुमार?