संदेशखाली में शाहजहां ने जो जमीनें हड़पीं, उनके उपयोग का अध्ययन करने के लिए राज्यपाल ने टीम बनाई

'कृषि के बजाय, इन जमीनों पर मछली पालन एक आर्थिक रूप से व्यावहारिक विकल्प होगा'

संदेशखाली में शाहजहां ने जो जमीनें हड़पीं, उनके उपयोग का अध्ययन करने के लिए राज्यपाल ने टीम बनाई

Photo: rajbhavankolkata website

कोलकाता/दक्षिण भारत। पश्चिम बंगाल के राज्यपाल सीवी आनंद बोस ने संदेशखाली में ग्रामीणों से अवैध रूप से छीनी गईं और मछली फार्म में तब्दील की गईं जमीनों का अध्ययन करने और उनका उपयोग करने के तरीके सुझाने के लिए विशेषज्ञों की एक टीम का गठन किया है। राजभवन के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी है।

क्षेत्र के विशेषज्ञों ने बताया है कि निलंबित तृणमूल कांग्रेस नेता शाहजहां शेख द्वारा लोगों से कथित तौर पर छीनी गई और अब मूल मालिकों को लौटाई गई कृषि भूमि की ऊपरी मिट्टी मछली पालन के लिए खारे पानी की निकासी के कारण कृषि के लिए अनुपयुक्त हो गई है।

उन्होंने बताया कि ऊपरी मिट्टी को हटाने की जरूरत है। उन जमीनों को फिर से खेती के लिए उपयुक्त बनाने के वास्ते प्रतिस्थापित करने की जरूरत है।

उन्होंने यह भी राय दी कि कृषि के बजाय, इन जमीनों पर मछली पालन एक आर्थिक रूप से व्यावहारिक विकल्प होगा।

बोस, नई दिल्ली की अपनी हालिया यात्रा के दौरान, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद गए और इस मामले पर विशेषज्ञों के साथ चर्चा की।

इसके बाद उन्होंने मामले का अध्ययन करने और संदेशखाली में भूमि उपयोग के तरीके सुझाने के लिए एक समिति का गठन किया।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

तमिलनाडु के लिए पानी छोड़ने के कावेरी पैनल के निर्देश के खिलाफ अपील करेगी कर्नाटक सरकार तमिलनाडु के लिए पानी छोड़ने के कावेरी पैनल के निर्देश के खिलाफ अपील करेगी कर्नाटक सरकार
Photo: @siddaramaiah X account
25 जून को 'संविधान हत्या दिवस' घोषित किया गया
आंध्र प्रदेश: पूर्व मुख्यमंत्री जगन और दो वरिष्ठ आईपीएस अधिकारियों पर 'हत्या के प्रयास' का मामला दर्ज
पाकिस्तान में फिर पैदा हुआ आटे का संकट, लगेंगी लंबी कतारें!
लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद लोग अब जवाबदेही की मांग कर रहे हैं: खरगे
दिल्ली के काम रोकने के लिए झूठे केस में केजरीवाल को जेल में डालने की साज़िश रची गई: आप
केजरीवाल को सर्वोच्च न्यायालय से अंतरिम जमानत मिलने पर बोली 'आप'- 'सत्यमेव जयते'