7 घंटों तक जारी रही पाक रेंजरों की गोलीबारी में दो लोग घायल

पाकिस्तानी गोलीबारी गुरुवार रात करीब 8 बजे शुरू हुई

7 घंटों तक जारी रही पाक रेंजरों की गोलीबारी में दो लोग घायल

फोटो: बीएसएफ जम्मू एक्स अकाउंट

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। बीएसएफ ने शुक्रवार को कहा कि जम्मू में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर भारतीय चौकियों और नागरिक इलाकों को निशाना बनाकर पाकिस्तान रेंजरों द्वारा अकारण गोलीबारी करीब सात घंटे तक जारी रही।

एक आधिकारिक बयान में, सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने कहा कि पाकिस्तान रेंजरों ने मोर्टार दागे और भारी मशीनगनों का इस्तेमाल किया, जिससे दो लोग घायल हो गए।

गोलीबारी के कारण बीएसएफ कांस्टेबल बसवा राज के दोनों हाथों में मामूली चोटें आईं। इसमें कहा गया कि अरनिया की स्थानीय निवासी रजनी देवी को मामूली चोटें आईं।

बल ने कहा कि पाकिस्तानी गोलीबारी गुरुवार रात करीब 8 बजे शुरू हुई और शुक्रवार सुबह 2:45 बजे तक जारी रही।

बल ने कहा कि बीएसएफ स्थिति का आकलन करते हुए घटनाक्रम पर बारीकी से नजर रखे हुए है और सीमा और उसके निवासियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक प्रतिक्रिया देने के लिए सतर्क है।

बताया गया कि अकारण गोलीबारी शुरू होने के बाद, बीएसएफ जवानों ने जवाबी कार्रवाई की और बाद में पाक रेंजरों ने अरनिया से सटीं उसकी सीमा चौकियों को निशाना बनाने के लिए गोलीबारी बढ़ा दी, जिसके बाद इन क्षेत्रों में उसकी अग्रिम रक्षा चौकियों से जवाबी कार्रवाई की गई।

बीएसएफ ने कहा कि गुरुवार रात लगभग 9:15 बजे, पाकिस्तान रेंजरों ने सीमा चौकियों और नागरिक इलाकों को निशाना बनाकर मोर्टार फायरिंग शुरू कर दी, जिसमें से कुछ गोले अरनिया शहर में गिरे, जिससे एक नागरिक मामूली रूप से घायल हो गया।

बयान में कहा गया है कि गुरुवार रात करीब 10:40 बजे पाकिस्तान रेंजरों ने भारी मशीन गन से फायरिंग की और हमारी चौकियों को निशाना बनाया। रात करीब 1 बजे रेंजरों ने फिर से गोलीबारी की और बीएसएफ चौकियों को निशाना बनाया, जिसके बाद गोलीबारी शुरू हो गई।

गोलीबारी देर रात 2:45 बजे तक जारी रही।

बीएसएफ ने कहा कि घायल जवान की हालत स्थिर है, जबकि भौतिक नुकसान का आकलन किया जा रहा है।

जम्मू जिले के अरनिया और आरएस पुरा सेक्टरों में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तानी रेंजरों और बीएसएफ जवानों के बीच रुक-रुक कर हो रही गोलीबारी शुक्रवार तड़के रुक गई।

पाकिस्तानी रेंजरों की गोलीबारी के बाद सीमावर्ती बस्तियों से चले परिवार अब अपने घरों को लौटने लगे हैं।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News