‘महाभारत’ में शकुनी की भूमिका निभाने वाले गूफी पेंटल का निधन

अभिनेता उम्र संबंधी परेशानियों से पीड़ित थे

‘महाभारत’ में शकुनी की भूमिका निभाने वाले गूफी पेंटल का निधन

पेंटल के परिवार में उनका बेटा, बहू और पोता हैं

मुंबई/भाषा। टेलीविजन धारावाहिक ‘महाभारत’ में शकुनी मामा की भूमिका निभाने के बाद हर घर का जाना-माना चेहरा बन गए अभिनेता गूफी पेंटल का उम्र संबंधी समस्याओं के कारण यहां एक अस्पताल में सोमवार को निधन हो गया।

उनके भतीजे हितेन पेंटल ने यह जानकारी देते हुए बताया कि गूफी पेंटल 79 वर्ष के थे।

हितेन पेंटल ने बताया, वह नहीं रहे। सुबह नौ बजे अस्पताल में उनका निधन हो गया। उनके दिल ने काम करना बंद कर दिया और नींद में ही उन्होंने अंतिम सांस ली।

हितेन ने पहले बताया था कि अभिनेता उम्र संबंधी परेशानियों से पीड़ित हैं।

हितेन ने कहा था, उन्हें रक्तचाप और हृदय संबंधी समस्या हैं। वे काफी समय से अस्वस्थ हैं। तबीयत ज्यादा बिगड़ने के कारण हमने उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया। वह सात-आठ दिन से अस्पताल में हैं। शुरू में उनकी हालत गंभीर थी, लेकिन फिलहाल स्थिर है।

पेंटल ने 1980 के दशक में ‘सुहाग‘, ‘दिल्लगी’, जैसी फिल्में करने के साथ ही ‘सीआईडी’ और ‘हेलो इंस्पेक्टर’ जैसे टेलीविजन धारावाहिक भी किए। हालांकि बीआर चोपड़ा की ‘महाभारत’ में शकुनी मामा के उनके किरदार से उन्हें घर-घर में पहचान मिली।

पेंटल के परिवार में उनका बेटा, बहू और पोता हैं। पेंटल का अंतिम संस्कार आज शाम करीब चार बजे उपनगरीय अंधेरी के एक श्मशान घाट में किया जाएगा।

About The Author

Related Posts

Post Comment

Comment List

Advertisement

Advertisement

Latest News

देवेगौड़ा ने कावेरी जल मुद्दे से निपटने के कर्नाटक सरकार के तरीके पर क्या कहा? देवेगौड़ा ने कावेरी जल मुद्दे से निपटने के कर्नाटक सरकार के तरीके पर क्या कहा?
देवेगौड़ा ने कहा कि उन्होंने संसद के हाल में संपन्न सत्र के दौरान राज्यसभा में कावेरी मुद्दा उठाया था
राजग में शामिल हुआ जद (एस): नड्डा
कावेरी जल विवाद: बेंगलूरु, खासकर तमिल बहुल इलाकों में बढ़ाई गई सुरक्षा
वंदे भारत ट्रेनों के संचालन और प्रबंधन में कर्मचारियों के प्रशिक्षण पर दिया जा रहा खास ध्यान
वंदे भारत एक्सप्रेस: देश की शान, रेलवे कर्मियों और उनके परिवारों का गौरव
उप्र पुलिस की सख्त कार्रवाई, महिला कांस्टेबल पर हमले का मुख्य आरोपी मुठभेड़ में ढेर
सोशल मीडिया और अनुशासन