गुजरात: कितना कमाल दिखा पाए 'आप' के मुख्यमंत्री उम्मीदवार गढ़वी?

खंभालिया से गढ़वी को 59,089 वोट मिले।

गुजरात: कितना कमाल दिखा पाए 'आप' के मुख्यमंत्री उम्मीदवार गढ़वी?

इनमें 58,467 ईवीएम वोट और 622 पोस्टल वोट हैं

गांधीनगर/दक्षिण भारत। गुजरात में कई लुभावने वादों के साथ विधानसभा चुनाव मैदान में उतरी आम आदमी पार्टी (आप) का प्रदर्शन फीका ही रहा। उसने जिन इसुदान गढ़वी को खंभालिया सीट से उतारा, वे भी कोई कमाल नहीं दिखा पाए। 

चुनाव आयोग द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार, खंभालिया से गढ़वी को 59,089 वोट मिले। इनमें 58,467 ईवीएम वोट और 622 पोस्टल वोट हैं। यह इस सीट पर डाले गए कुल वोटों का 31.1 प्रतिशत है। 

हालांकि वे यहां दूसरे स्थान पर रहे। खंभालिया से भाजपा उम्मीदवार मुलुभाई बेरा ने 77,834 वोट हासिल किए, जो यहां डाले गए कुल वोटों का 40.96 प्रतिशत है। तीसरे स्थान पर कांग्रेस के विक्रमभाई मादाम रहे हैं। उन्हें 44,715 वोट मिले, जो कुल वोटों का 23.53 प्रतिशत है। 

अगर आप और कांग्रेस के उक्त उम्मीदवारों के वोटों को जोड़ें तो यह 103,804 के आंकड़े को छूता है। इस तरह दोनों पार्टियों ने एक—दूसरे का खेल खूब बिगाड़ा।

खंभालिया से ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम ने याकूब हुसैन को टिकट दिया था, जो बमुश्किल 737 वोट ले सके। इस सीट से कुल 11 उम्मीदवार मैदान में थे। यहां सबसे कम वोट निर्दलीय उम्मीदवार इब्राहिम भाई गवड़ा को मिले। उन पर सिर्फ 229 मतदाताओं ने भरोसा जताया। 

वहीं, 2582 मतदाताओं ने नोटा को चुना, जो इस सीट पर डाले गए कुल वोटों का 1.36 प्रतिशत है।

About The Author

Related Posts

Post Comment

Comment List

Advertisement

Advertisement

Latest News

वैकल्पिक उर्वरकों को बढ़ावा देने के लिए पेश की जाएगी पीएम-प्रणाम योजना वैकल्पिक उर्वरकों को बढ़ावा देने के लिए पेश की जाएगी पीएम-प्रणाम योजना
लाखों युवाओं को कौशल प्रदान करने के लिए 20 कौशल भारत अंतरराष्ट्रीय केंद्र स्थापित किए जाएंगे
बजट: अपर भद्रा परियोजना के लिए 5,300 करोड़ रु. की घोषणा, बोम्मई ने जताया आभार
अब 7 लाख रुपए तक की सालाना आय वालों को नहीं देना होगा टैक्स
एकलव्य मॉडल आवासीय स्कूलों के लिए की जाएगी 38,800 शिक्षकों की भर्ती
बजट भाषण: 80 करोड़ लोगों को दिया मुफ्त अनाज, 2.2 लाख करोड़ रु. का हस्तांतरण
बजट 2023-24 को पिछले बजट की बुनियाद पर निर्माण की उम्मीद: सीतारमण
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट पेश करने से पहले राष्ट्रपति से मुलाकात की