कोरोना वायरस: गायिका कनिका कपूर हुईं स्वस्थ, अस्पताल से मिली छुट्टी

कोरोना वायरस: गायिका कनिका कपूर हुईं स्वस्थ, अस्पताल से मिली छुट्टी

लखनऊ/भाषा। कोरोना वायरस से संक्रमित होने के कारण यहां संजय गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान में भर्ती गायिका कनिका कपूर की लगातार दो रिपोर्ट में उनके संक्रमित नहीं होने की पुष्टि के बाद उन्हें सोमवार सुबह अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।

संजय गांधी पीजीआई के निदेशक डॉ. आरके धीमन ने बताया कि दो दिन पहले कनिका कपूर की रिपोर्ट में वह संक्रमित नहीं पाई गई थीं, जिसके बाद रविवार शाम एक बार फिर उनकी रिपोर्ट में उनके संक्रमित नहीं होने की पुष्टि हुई।

उन्होंने बताया कि कनिका कपूर को सोमवार सुबह अस्पताल से छुट्टी दे दी गई और अब वह पूरी तरह से स्वस्थ हैं लेकिन उन्हें अभी कुछ दिन विशेष सावधानी बरतनी होगा। कनिका कपूर को अभी कुछ दिन अपने घर पर पृथकवास में रहना पड़ेगा।

गौरतलब है कि कनिका 10 मार्च को एयर इंडिया के विमान से लंदन से मुंबई पहुंची थीं। उसके बाद वह लखनऊ आई थीं और उन्होंने लखनऊ एवं कानपुर समेत अन्‍य जगहों पर न सिर्फ पार्टियों में हिस्‍सा लिया था, बल्कि कई नेताओं और अन्‍य हस्तियों से भी मुलाकात की थी।

इसके बाद कोरोना वायरस संबंधी उनकी जांच रिपोर्ट आने के बाद उनके संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी। उन्हें संजय गांधी पीजीआई में भर्ती कराया गया था जहां डाक्टरों की विशेष टीम उनकी देखभाल कर रही थी।

Google News
Tags:

About The Author

Related Posts

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

बीते 10 वर्षों में जनजातीय समाज, गरीबों, युवाओं, महिलाओं को सर्वोच्च प्राथमिकता बनाकर काम किया: मोदी बीते 10 वर्षों में जनजातीय समाज, गरीबों, युवाओं, महिलाओं को सर्वोच्च प्राथमिकता बनाकर काम किया: मोदी
सिंदरी/दक्षिण भारत। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को झारखंड के सिंदरी में विभिन्न विकास परियोजनाओं का उद्घाटन, लोकार्पण और शिलान्यास...
विधानसभा अध्यक्ष के आदेश के खिलाफ ठाकरे गुट की याचिका पर 7 मार्च को सुनवाई करेगा उच्चतम न्यायालय
बांग्लादेश: ढाका की बहुमंजिला इमारत में आग लगने से 45 लोगों की मौत
हिंसा का चक्र कब तक?
उदित राज ने भाजपा पर दलितों, पिछड़ों, महिलाओं और आदिवासियों की अनदेखी का आरोप लगाया
केंद्रीय कैबिनेट ने 75 हजार करोड़ रुपए की रूफटॉप सोलर योजना को मंजूरी दी
मंदिर संबंधी विधेयक कर्नाटक विधानसभा से फिर पारित हुआ