सिंधु ने रचा इतिहास, तेजस से उड़ान भर छुआ आसमान

सिंधु ने रचा इतिहास, तेजस से उड़ान भर छुआ आसमान

sindhu in tejas

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु ने शनिवार को ऐरो इंडिया शो में शिरकत की। इस दौरान उन्होंने स्वदेशी लड़ाकू विमान तेजस से उड़ान भरी। इसके साथ ही सिंधु ने एक और कीर्तिमान रच दिया। वे इस विमान से आसमान छूने वाली पहली महिला बन गई हैं। उड़ान से लौटने के बाद सिंधु ने बताया कि यह सफर शानदार रहा है। इस विमान को उड़ाने वाले विंग कमांडर सिद्धार्थ थे।

देश की स्टार शटलर और ओलंपिक पदक विजेता सिंधु के बारे में शुक्रवार को ही खबर आई थी कि वे ऐरो इंडिया शो में आएंगी और तेजस से उड़ान भरेंगी। इसके बाद सिंधु के प्रशंसकों ने उन्हें इस ऐतिहासिक हवाई यात्रा के लिए बधाइयां दीं। पीवी सिंधु ने विमान में बैठने से पहले इसके लिए निर्धारित यूनिफॉर्म पहनी। कॉकपिट में पायलट सिद्धार्थ मौजूद थे। विमान में बैठने के बाद सिंधु ने हाथ हिलाकर सबका अभिवादन किया।

sindhu in tejas

पायलट ने बताया कि सिंधु जल्द ही तेजस को लेकर सहज हो गई थीं। उड़ान के बाद तेजस तेजी से एक डैम और तीखे मोड़ से गुजरता हुआ वापस लौटा। इस दौरान लोगों ने तालियां बजाकर वायुसेना के जज्बे को सराहा। सिंधु ने करीब पांच मिनट विमान से उड़ान भरी। उन्होंने इसके लिए डीआरडीओ का आभार जताया है। बता दें कि गुरुवार को थल सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने भी तेजस से उड़ान भरी और इसकी प्रशंसा की थी।

Google News
Tags:

About The Author

Related Posts

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

बीते 10 वर्षों में जनजातीय समाज, गरीबों, युवाओं, महिलाओं को सर्वोच्च प्राथमिकता बनाकर काम किया: मोदी बीते 10 वर्षों में जनजातीय समाज, गरीबों, युवाओं, महिलाओं को सर्वोच्च प्राथमिकता बनाकर काम किया: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि मैंने संकल्प लिया था कि सिंदरी के इस खाद कारखाने को जरूर शुरू करवाऊंगा
विधानसभा अध्यक्ष के आदेश के खिलाफ ठाकरे गुट की याचिका पर 7 मार्च को सुनवाई करेगा उच्चतम न्यायालय
बांग्लादेश: ढाका की बहुमंजिला इमारत में आग लगने से 45 लोगों की मौत
हिंसा का चक्र कब तक?
उदित राज ने भाजपा पर दलितों, पिछड़ों, महिलाओं और आदिवासियों की अनदेखी का आरोप लगाया
केंद्रीय कैबिनेट ने 75 हजार करोड़ रुपए की रूफटॉप सोलर योजना को मंजूरी दी
मंदिर संबंधी विधेयक कर्नाटक विधानसभा से फिर पारित हुआ