चीन छोड़कर जाएंगी कंपनियां? अमेरिका ने पेश किया महत्वपूर्ण विधेयक

चीन छोड़कर जाएंगी कंपनियां? अमेरिका ने पेश किया महत्वपूर्ण विधेयक

चीन एवं अमेरिका के झंडे

वॉशिंगटन/भाषा। अमेरिकी कंपनियों को अपने विनिर्माण संयंत्र चीन से वापस अपने देश लाने में मदद के लिए एक प्रभावशाली सांसद ने कांग्रेस में एक विधेयक पेश किया है। माना जा रहा है कि कोरोना वायरस महामारी के चलते आने वाले दिनों में बड़ी संख्या में अमेरिकी कंपनियां चीन से बाहर निकलेंगी।

अमेरिकी सांसद मार्क ग्रीन द्वारा पेश किए गए विधेयक ‘द ब्रिंग अमेरिकन कंपनी होम एक्ट’ में इन कंपनियों को वापस लागने की पूरी लागत और चीन आयात पर लगने वाले आयात शुल्क को कवर करने के लिए कहा गया है।

ग्रीन ने कहा, ‘हमारी अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने के लिए अमेरिका में निवेश आकर्षित करना जरूरी है। लेकिन अमेरिकी कंपनियों के लिए अपने देश आने में एक सबसे बड़ी बाधा लागत है। कई कंपनियों के लिए ये बहुत खर्चीला और जोखिम भरा है, खासतौर से वैश्विक आर्थिक अनिश्चिता के दौर में।’

उन्होंने कहा, ‘चीन ने साफ कर दिया है कि वह भरोसेमंद साझेदार नहीं है। अमेरिका को फिर से विकसित करने और चीन पर निर्भरता कम करने के लिए, आइए हम अवसर के द्वार खोलें और हमारे देश में ही निवेश को प्रोत्साहित करें। मेरा विधेयक विकास के लिए है, और ऐसा करना ही उचित है।’

उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी की प्रतिक्रिया में चीन लापरवाह रहा है और बाकी दुनिया को इस बीमारी की गंभीरता के बारे में बताने में विफल रहा, जिससे हजारों अमेरिकियों की मौत हो गई।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

पहले की सरकारें ग्रामीण अर्थव्यवस्था की जरूरतों को टुकड़ों में देखती थीं: मोदी पहले की सरकारें ग्रामीण अर्थव्यवस्था की जरूरतों को टुकड़ों में देखती थीं: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले 10 वर्षों में भारत में दूध उत्पादन में करीब 60 प्रतिशत वृद्धि हुई है
ईडी ने अरविंद केजरीवाल को नया समन जारी किया
सीबीआई ने सत्यपाल मलिक के परिसरों सहित 30 से अधिक स्थानों पर छापे मारे
निवेश पर उच्च रिटर्न का वादा कर एक शख्स से 1.19 करोड़ रु. ठगे
नशे की प्रवृत्ति पर लगाम जरूरी
कर्नाटक सरकार ने अधिवक्ताओं के खिलाफ प्राथमिकी पर उप-निरीक्षक को निलंबित किया
'हार रहे उम्मीदवारों को जिताया' ... पाक के चुनावों में 'धांधली' के आरोपों पर क्या बोला अमेरिका?