बोम्मई ने की घोषणा: गंगा आरती की तरह तुंगभद्रा आरती

बोम्मई ने की घोषणा: गंगा आरती की तरह तुंगभद्रा आरती

तुंगभद्रा तट को उच्च श्रेणी की पर्यटन सुविधाओं के साथ किया जाएगा विकसित


हरिहर/दक्षिण भारत। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने गंगा तट पर की जाने वाली आरती की तरह तुंगभद्रा आरती की घोषणा की है। कर्नाटक के दावणगेरे जिले के हरिहर में तुंगभद्रा आरती परियोजना के हिस्से के रूप में 108 योग मंडपों के निर्माण के लिए आधारशिला रखने के बाद संबोधित करते हुए, बोम्मई ने रविवार को कहा कि तुंगभद्रा नदी के तट को उच्च श्रेणी की पर्यटन सुविधाओं के साथ विकसित किया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने काशी विश्वनाथ मंदिर का जीर्णोद्धार किया है, जिसे पहले भीड़भाड़ वाली गलियों के कारण खोजना पड़ता था। अब सभी घाटों को साफ कर दिया गया और मंदिर को एक भव्य रूप मिला है, जहां गंगा आरती बड़े उत्साह के साथ की जा रही है।

बोम्मई ने कहा कि उसी तर्ज पर हम चाहते हैं कि दक्षिण में तुंगभद्रा आरती की जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि वचनानन्द स्वामीजी के मार्गदर्शन में इस संबंध में एक परियोजना का क्रियान्वयन किया जा रहा है। परियोजना में हरिहरेश्वर से पैदल मार्ग का विकास, पानी की सफाई और शहरी क्षेत्रों में प्रदूषण की रोकथाम शामिल है। उन्होंने कहा कि भगवान हरि और भगवान हर का संगम अद्भुत परिणाम लाएगा।

मुख्यमंत्री ने नदी की सफाई पर कहा कि पानी प्रकृति के पांच तत्वों में से एक है, इसकी सफाई सबसे महत्वपूर्ण है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हरिहर चेन्नई-मुंबई औद्योगिक गलियारे का हिस्सा है और इस शहर को विकास के लिए सरकार का पूरा समर्थन मिलेगा। बोम्मई ने कहा, सरकार ने हरिहर के व्यापक विकास के लिए कई परियोजनाएं तैयार की हैं, जिन्हें इसी साल शुरू किया जाएगा।

यह उल्लेख करते हुए कि सभ्यताएं नदियों के किनारे पनपती हैं, बोम्मई ने कहा कि हर नदी ने अपनी संस्कृति को बढ़ावा दिया है। सभ्यता और संस्कृति एक साथ विकसित हुई हैं। कुछ का मानना है कि सभ्यता ही संस्कृति है। ऐसा नहीं है। परिवर्तन सभ्यता है, हम जो हैं वह संस्कृति को दर्शाता है। सभ्यता भी तुंगभद्रा के तट पर पनपी थी।

तुंगभद्रा नदी के तट पर स्थित हरिहर शहर का नाम ऐतिहासिक मंदिर के नाम पर पड़ा है।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News