वीरशैव और लिंगायतों को बांटने के फैसले का भाजपा ने किया तीखा विरोध

वीरशैव और लिंगायतों को बांटने के फैसले का भाजपा ने किया तीखा विरोध

बेंगलूरु। राज्य मंत्रिमंडल द्वारा सोमवार को वीरशैव और लिंगायत समुदायों को दो अलग धर्म मानते हुए लिंगायतों को राज्य में अल्पसंख्यक समुदाय का दर्जा दिए जाने की सिफारिश केंद्र सरकार को भेजने का निर्णय लिए जाने पर विवाद शुरू हो गया है। सोमवार को मंत्रिमंडल की बैठक में यह निर्णय लिए जाने के तुरंत बाद भाजपा नेता मोहन लिंबिकाई और सशील नामोशी ने इसके विरोध में एक संयुक्त बयान जारी किया। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने चुनावी रणनीति के तहत इन दोनों समुदायों को बांटने का प्रयास किया है, जबकि वीरशैव और लिंगायत समुदाय शुरू से एक ही हैं। बयान के मुताबिक, इन समुदायों को बांटने के लिए गठित विशेषज्ञ समिति ने इस विषय में अपनी सिफारिशें देने के लिए सरकार से छह महीने का समय मांगा था लेकिन सरकार ने इस पर दो महीने के अंदर अपनी रिपोर्ट सौंपने का दबाव बनाया। इससे स्पष्ट होता है कि राज्य की मौजूदा कांग्रेस सरकार इस मुद्दे का राजनीतिक इस्तेमाल करना चाहती है। संयुक्त बयान में कहा गया है कि समिति की एकतरफा रिपोर्ट पर राज्य मंत्रिमंडल ने सोमवार को लिंगायतवीरशैव और बसवतत्व अनुयायी (संत बसवेश्वर के दर्शन के अनुयायी) समुदायों को अलग करने के लिए केंद्र सरकार से अधिसूचना जारी करने का अनुरोध भेजने को मंजूरी दे दी है। इस अधिसूचना में लिंगायत समुदाय को कर्नाटक में अल्पसंख्यक दर्जा देने की भी सिफारिश की जाएगी। दोनों भाजपा नेताओं ने इसका विरोध करते हुए कहा कि बसवतत्व अनुयायी समुदाय का अर्थ स्पष्ट नहीं है। राज्य में अनुसूचित जाति और जनजाति समुदायों के लोग भी संत बसवेश्वर के एकांत अनुयायी हैं। इस आधार पर भाजपा नेताओं ने संयुक्त बयान में वीरशैव और लिंगायत समुदायों को अलगअलग करने के कदम को एक ’’खतरनाक साजिश’’ करार दिया। उन्होंने कहा कि भाजपा अब भी वीरशैव महासभा और सिद्दगंगा के शिवकुमार स्वामीजी के निर्णय का समर्थन करती है, जिसने राज्य सरकार द्वारा दोनों समुदायों को बांटने के प्रस्ताव का शुरू से विरोध किया है।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

विपक्ष पर मोदी का प्रहार- इस बार तो इन्हें जमानत बचाने के लिए ही बहुत संघर्ष करना पड़ेगा विपक्ष पर मोदी का प्रहार- इस बार तो इन्हें जमानत बचाने के लिए ही बहुत संघर्ष करना पड़ेगा
प्रधानमंत्री ने कहा कि छह दशक के परिवारवाद, भ्रष्टाचार और तुष्टीकरण ने उप्र को विकास में पीछे रखा
प्रधानमंत्री मोदी के कुशल नेतृत्व ने भारत को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया: नड्डा
अगले पांच वर्षों में देश आत्मविश्वास से विकास को नई रफ्तार देगा, यह मोदी की गारंटी: प्रधानमंत्री
मुख्य चुनाव आयुक्त ने तमिलनाडु में लोकसभा चुनाव की तैयारियों की समीक्षा शुरू की
तेलंगाना: बीआरएस विधायक नंदिता की सड़क दुर्घटना में मौत; मुख्यमंत्री, केसीआर ने जताया शोक
अमेरिका की इस निजी कंपनी ने चंद्रमा पर पहला वाणिज्यिक अंतरिक्ष यान उतारकर इतिहास रचा
पश्चिम बंगाल: भाजपा प्रतिनिधिमंडल संदेशखाली का दौरा करेगा