कमल हासन ने विधायकों को लिया आड़े-हाथों

कमल हासन ने विधायकों को लिया आड़े-हाथों

चेन्नई। दिग्गज अभिनेता कमल हासन ने निर्वाचित प्रतिनिधियों को शुक्रवार को आ़डे हाथों लेते हुए कहा कि उन्हें भी काम नहीं तो वेतन नहीं प्रणाली के तहत लाया जाना चाहिए। अभिनेता की यह टिप्पणी सरकारी कर्मचारियों और शिक्षकों के एक वर्ग द्वारा ह़डताल करने और मद्रास उच्च न्यायालय द्वारा उनकी खिंचाई के बीच आई है। अभिनेता ने किसी का नाम लिए बगैर ट्वीट किया, काम नहीं तो वेतन नहीं सिर्फ सरकारी कर्मचारियों के लिए? खरीद फरोख्त करने वाले राजनेता जो रिजॉर्ट्स में आराम कर रहे हैं उनका क्या? रिजॉर्ट्स की टिप्पणी जाहिरा तौर पर अन्नाद्रमुक के सत्तारू़ढ विधायकों के एक वर्ग के लिए है जिन्हें बर्खास्त नेता टीटीवी दिनाकरण के प्रति निष्ठा के कारण रिजॉर्ट्स में स्थानांतरित किया गया था। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी के खिलाफ पार्टी के १९ विधायकों के विद्रोह के बाद उन्हें शुरुआत में पुडुचेरी के एक रिजॉर्ट में रखा गया था। बाद में उन्हें कर्नाटक के कूर्ग रिजॉर्ट में स्थानांतरित कर दिया गया और तब से वह लोग वहीं पर हैं।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

पहले की सरकारें ग्रामीण अर्थव्यवस्था की जरूरतों को टुकड़ों में देखती थीं: मोदी पहले की सरकारें ग्रामीण अर्थव्यवस्था की जरूरतों को टुकड़ों में देखती थीं: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले 10 वर्षों में भारत में दूध उत्पादन में करीब 60 प्रतिशत वृद्धि हुई है
ईडी ने अरविंद केजरीवाल को नया समन जारी किया
सीबीआई ने सत्यपाल मलिक के परिसरों सहित 30 से अधिक स्थानों पर छापे मारे
निवेश पर उच्च रिटर्न का वादा कर एक शख्स से 1.19 करोड़ रु. ठगे
नशे की प्रवृत्ति पर लगाम जरूरी
कर्नाटक सरकार ने अधिवक्ताओं के खिलाफ प्राथमिकी पर उप-निरीक्षक को निलंबित किया
'हार रहे उम्मीदवारों को जिताया' ... पाक के चुनावों में 'धांधली' के आरोपों पर क्या बोला अमेरिका?