कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ जिले की 17 ग्राम पंचायत में पूर्ण लॉकडाउन

कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ जिले की 17 ग्राम पंचायत में पूर्ण लॉकडाउन

कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ जिले की 17 ग्राम पंचायत में पूर्ण लॉकडाउन

प्रतीकात्मक चित्र। स्रोत: PixaBay

मेंगलूरु/दक्षिण भारत। कर्नाटक की 17 ग्राम पंचायतों में पूर्ण लॉकडाउन का फैसला किया गया है। ये ग्राम पंचायतें दक्षिण कन्नड़ जिले में स्थित हैं। यहां प्रशासन ने 17 ग्राम पंचायतों में पूर्ण रूप से लॉकडाउन का ऐलान किया है, चूंकि इनमें कोरोना के 50 से ज्यादा मामले सामने आए हैं।

इस बारे में जिला उपायुक्त केवी राजेंद्र ने बताया कि मेंगलूरु तालुक के नीरमार्ग और कोनाजे, बेलथंगाडी के आठ गांव, सुल्लिया के पांच गांव और कड़बा के दो गांवों में सोमवार सुबह नौ बजे से 21 जून सुबह नौ बजे तक पूर्ण रूप से लॉकडाउन लागू रहेगा।

हालांकि, इस दौरान आवश्यक वस्तुओं को लेकर कुछ छूट भी दी गई हैं। ​जिला उपायुक्त ने बताया कि दूध, दवा, पेट्रोल और अन्य आवश्यक सेवाओं से जुड़े लोगों को ही गांव के भीतर और बाहर आने-जाने की इजाजत होगी।

जिला उपायुक्त ने कहा कि जिन गांवों को सील किया गया है, वहां कार्यबल भी तैनात किया गया है। वहीं, उडुपी में लॉकडाउन में कुछ ढील दे दी गई है। यहां आवश्यक वस्तुएं बेचने वाली दुकानें दोपहर दो बजे तक खोली जा सकेंगी।

बता दें कि विशेषज्ञों ने सलाह दी है कि लॉकडाउन में ढील दिए जाने के दौरान सावधानी बरते जाने की जरूरत है। मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग, स्वच्छता एवं टीकाकरण से ही कोरोना महामारी को परास्त किया जा सकता है।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

पहले की सरकारें ग्रामीण अर्थव्यवस्था की जरूरतों को टुकड़ों में देखती थीं: मोदी पहले की सरकारें ग्रामीण अर्थव्यवस्था की जरूरतों को टुकड़ों में देखती थीं: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले 10 वर्षों में भारत में दूध उत्पादन में करीब 60 प्रतिशत वृद्धि हुई है
ईडी ने अरविंद केजरीवाल को नया समन जारी किया
सीबीआई ने सत्यपाल मलिक के परिसरों सहित 30 से अधिक स्थानों पर छापे मारे
निवेश पर उच्च रिटर्न का वादा कर एक शख्स से 1.19 करोड़ रु. ठगे
नशे की प्रवृत्ति पर लगाम जरूरी
कर्नाटक सरकार ने अधिवक्ताओं के खिलाफ प्राथमिकी पर उप-निरीक्षक को निलंबित किया
'हार रहे उम्मीदवारों को जिताया' ... पाक के चुनावों में 'धांधली' के आरोपों पर क्या बोला अमेरिका?