कर्नाटक में अब तक कोरोना वायरस का एक भी मामला नहीं: सरकार

कर्नाटक में अब तक कोरोना वायरस का एक भी मामला नहीं: सरकार

बेंगलूरु/भाषा। कर्नाटक सरकार ने सोमवार को कहा कि कोरोना वायरस के संभावित प्रकोप को देखते हुए उसने राज्य में निगरानी और रोकथाम के उपायों को तेज कर दिया है तथा इसके लिए धन की कोई कमी नहीं है। चिकित्सा शिक्षा मंत्री के सुधाकर ने कहा कि राज्य में कोरोना वायरस से संक्रमण का एक भी मामला सामने नहीं आया है तथा जल्दी ही और प्रयोगशालाएं स्थापित की जाएंगी।

सुधाकर ने शून्यकाल के दौरान विधानसभा में कहा कि अब तक कोरोना वायरस से संक्रमण का एक भी मामला सामने नहीं आया है और इसका मुख्य कारण राज्य सरकार द्वारा उठाए गए एहतियाती कदम हैं। उन्होंने कहा, ‘किसी के लिए घबराने का कोई कारण नहीं है, लेकिन सावधानी बरतने की जरूरत है।’

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य और चिकित्सा शिक्षा विभाग को सभी एहतियाती कदम उठाने का निर्देश दिया था।भरत शेट्टी, एनए हैरिस, एचके पाटिल सहित कई विधायकों ने कोरोना वायरस का मुद्दा उठाया था। सुधाकर ने कहा कि 20 जनवरी से ही राज्य सरकार ने इस मुद्दे को गंभीरता से लिया है और अन्य राज्य सरकारों द्वारा इस पर गौर करने से पहले ही हमने एहतियाती कदम शुरू कर दिए थे।

उन्होंने कहा कि प्रभावित देशों से आने वाले यात्रियों की सभी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों पर जांच की जा रही है। राज्य सरकार के अनुसार, अब तक कर्नाटक में हवाईअड्डों और बंदरगाहों पर 87,066 यात्रियों की जांच की गई है। मंत्री ने कहा कि एहतियात के तौर पर प्री-नर्सरी और नर्सरी स्कूलों के लिए एक महीने की छुट्टी घोषित की गई है।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

जमीन से जुड़ाव जरूरी जमीन से जुड़ाव जरूरी
कम-से-कम अगले लोकसभा चुनाव तक तो इनकी चर्चा जारी रहेगी
'हिंदी के साथ हमारे स्वाभिमान और राष्ट्रीय एकता का जुड़ाव है'
यूक्रेन को मिलेगी राहत? शांतिवार्ता के लिए पुतिन ने रखीं ये शर्तें
बीएचईएल को थर्मल पावर प्लांट के लिए दो बैक-टू-बैक ऑर्डर मिले
जी-7 शिखर सम्मेलन: मैक्रों समेत इन नेताओं से मिले मोदी, कई मुद्दों पर हुई चर्चा
येडियुरप्पा के खिलाफ गैर-जमानती वारंट पर बोले कुमारस्वामी- पिछले 4 महीनों में पुलिस विभाग क्या कर रहा था?
ऐसा मैसेज आए तो रहें सावधान, यहां सॉफ्टवेयर इंजीनियर और उसके परिवार ने गंवा दिए 5.14 करोड़ रु.