जब 2008 में वारंगल एनकाउंटर से चर्चा में आए सज्जनार

जब 2008 में वारंगल एनकाउंटर से चर्चा में आए सज्जनार

साइबराबाद के पुलिस आयुक्त वीसी सज्जनार

वारंगल/भाषा। हैदराबाद में पशु-चिकित्सक से सामूहिक बलात्कार और हत्या के मामले में गिरफ्तार किए गए चारों आरोपी शुक्रवार सुबह पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे गए। अभी साइबराबाद के पुलिस आयुक्त वीसी सज्जनार हैं और इत्तेफाकन वर्ष 2008 में वारंगल में दो लड़कियों पर तेजाब फेंकने के तीन आरोपियों को जब पुलिस की टीम ने ऐसी ही मुठभेड़ में मार गिराया था तो वे वारंगल में पदस्थ थे।

वारंगल शहर के स्थानीय निवासी उस घटना को याद करते हुए बताते हैं कि वर्ष 2008 में इंजीनियरिंग की दो छात्राओं पर कथित तौर पर तेजाब फेंकने के तीन आरोपियों को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया था। उस समय सज्जनार वारंगल के पुलिस अधीक्षक थे।

तेजाब के हमले में दोनों लड़कियों के चेहरे बुरी तरह जलकर खराब हो गए थे। घटना के विरोध में सार्वजनिक रोष फूट पड़ा था जिसके बाद पुलिस ने मामले पर संज्ञान लेते हुए कड़ा कदम उठाया। बाद में एक पीड़िता ने हैदराबाद में उपचार के दौरान दम तोड़ दिया था।

मुठभेड़ के बारे में स्थानीय व्यापारी अमरनाथ ने कहा, हमें तेजाब हमले की पीड़िताओं के लिए बहुत दुख हुआ था लेकिन तीनों आरोपियों के मारे जाने के बाद हमें सूकून मिला। हमें दिशा (काल्पनिक नाम) के लिए बुरा लग रहा है। हम मानते हैं कि दिशा के परिवार को न्याय मिल गया है।

गौरतलब है कि पशु-चिकित्सक के रूप में कार्यरत महिला का शव 28 नवंबर को साइबराबाद पुलिस आयुक्तालय के शादनगर स्टेशन की सीमा में एक पुलिया के नीचे मिला था। वह एक दिन पहले से लापता थी।

हैदराबाद में पशु-चिकित्सक युवती से बलात्कार और उसकी हत्या कर देने के चारों आरोपियों की आयु 20 से 24 वर्ष थी। उनमें से एक लॉरी चालक था और बाकी सहायक थे। उन्हें 29 नवंबर को गिरफ्तार किया गया था।

आरोपियों ने बलात्कार के बाद युवती की गला दबाकर हत्या कर दी थी और बाद में शव को जला दिया था। सोशल मीडिया पर ढेर सारे लोगों ने मुठभेड़ में आरोपियों को मार गिराने के लिए साइबराबाद पुलिस और सज्जनार की तारीफ की।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News