विस उपचुनाव में मिली हार की मायावती ने की समीक्षा

विस उपचुनाव में मिली हार की मायावती ने की समीक्षा

बसपा प्रमुख मायावती

लखनऊ/वार्ता। उत्तर प्रदेश राज्य विधानसभा के उपचुनाव में मिली हार की समीक्षा के लिये बुलायी गयी आत्मचिंतन बैठक में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती ने बुधवार को पार्टी की मजबूती की खातिर अहम फैसले लिये। पार्टी सूत्रों ने बताया कि सुश्री मायावती ने पार्टी कोर्डीनेटर के पद को समाप्त कर दिया है लेकिन प्रदेश अध्यक्ष और सेक्टर प्रणाली को बरकरार रखा है। पार्टी से जोनल इंचार्ज और मंडल स्तर के पदों को भी समाप्त कर दिया गया है। पार्टी मुख्यालय पर आयोजित बैठक विधानसभा उपचुनाव में मिली पराजय के कारणों की समीक्षा के लिये बुलायी गयी थी।
उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश को चार सेक्टरों में विभाजित किया गया है। बसपा अध्यक्ष ने पार्टी कैडरों को 2022 में होने वाले राज्य विधानसभा चुनाव तक नये सिस्टम के तहत काम करने को कहा है। पार्टी कैडरों से बूथ और सेक्टर कमेटियों को सक्रिय करने के साथ 2022 के चुनाव के लिये जुट जाने को कहा गया है। बसपा सुप्रीमो ने 11 विधानसभा सीट विशेषकर अंबेडकरनगर की जलालपुर क्षेत्र में मिली पराजय पर खिन्नता व्यक्त की। पार्टी ने यह सीट सपा के हाथों गंउन्होने जलालपुर में मिली हार के बारे में विस्तृत रिपोर्ट तलब की है।
लखनऊ, बरेली, मुरादाबाद, सहारनपुर को एक सेक्टर में समाहित किया गया है जबकि दूसरे सेक्टर में आगरा, अलीगढ़, कानपुर, चित्रकूट और झांसी, तीसरे में इलाहाबाद, मिर्जापुर, फैजाबाद और देवीपाटन, चौथे सेक्टर में वाराणसी, आजमगढ़, गोरखपुर और बस्ती मंडल शामिल किये गये हैं।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

राहुल ने फिर उठाया 'जाति और आबादी' का मुद्दा, कहा- सरकार नहीं चाहती 'भागीदारी' बताना राहुल ने फिर उठाया 'जाति और आबादी' का मुद्दा, कहा- सरकार नहीं चाहती 'भागीदारी' बताना
Photo: IndianNationalCongress FB page
बेंगलूरु में बोले मोदी- कांग्रेस ने टैक्स सिटी को टैंकर सिटी बना दिया
भाजपा के 'न्यू इंडिया' में असहमति की आवाजें खामोश कर दी जाती हैं: प्रियंका वाड्रा
कांग्रेस एक ऐसी बेल, जिसकी अपनी न कोई जड़ और न जमीन है: मोदी
जो वोटबैंक के लालच के कारण रामलला के दर्शन नहीं करते, उन्हें जनता माफ नहीं करेगी: शाह
इंडि गठबंधन वालों को इस चुनाव में लड़ने के लिए उम्मीदवार ही नहीं मिल रहे: मोदी
नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता दस वर्ष बाद भी बरकरार है: विजयेन्द्र येडीयुरप्पा