‘केंद्रीय बजट निराशाजनक, कोई विजन और रोडमैप नहीं’

‘केंद्रीय बजट निराशाजनक, कोई विजन और रोडमैप नहीं’

जयपुर। राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अशोक गहलोत ने केंद्रीय बजट को निराशाजनक बताया है। उन्होंने कहा कि विकास की बात करने वाली इस सरकार के बजट में न तो कोई विजन है और न ही विकास का कोई रोड मैप बताया गया है। गहलोत ने कहा कि किसानों को लागत से डे़ढ गुणा समर्थन मूल्य देने की घोषणा कोरी कल्पना एवं झूठ का पुलन्दा है। गहलोत ने बजट पर अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि देश के प्रत्येक व्यापारिक एवं औद्योगिक वर्ग के साथ मध्यम वर्ग एवं नौकरी पेशा लोगों को नोट बंदी और जीएसटी लागू होने के बाद बिग़डी देश की अर्थव्यवस्था को सुधारने की जो उम्मीदें थी वो पूरी तरह नाकारा साबित हुई हैं. वेतनभोगी कर्मचारियों को आयकर स्लेब में कोई राहत नहीं मिलने से निराशा हाथ लगी है। साथ ही, छोटे करदाताओं को कोई राहत नहीं दी गई है, उल्टा सेस की दर ३ प्रतिशत से ब़ढाकर ४ प्रतिशत कर दी गई।पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार द्वारा धन जुटाने के लिए २४ सार्वजनिक उपक्रमों का विनिवेश प्रस्तावित करना देश की अर्थव्यवस्था के लिए भविष्य में घातक सिद्ध होगा। क्योंकि इनमें सम्मिलित उपक्रम नवरतन श्रेणी के हैं। उन्होंने कहा कि छोटे निवेशक जो अपनी बचत को म्युच्अल फण्ड एवं शेयर्स में निवेश करते थे, उन पर १० प्रतिशत अतिरिक्त टैक्स लगाने से उनमें निराशा का माहौल पैदा होगा।गहलोत ने कहा कि बजट में वित मंत्री ने ९९ नई स्मार्ट सिटी बनाने की घोषणा की है, जो कोरी कल्पना ही लगती है, क्योंकि स्मार्ट सिटी डिजिटल इंडिया और स्टार्ट-अप जैसी पूर्व में प्रारम्भ की गई योजनाएं फ्लॉप हो चुकी हैं। बजट में दीर्घकालीन योजनाओं के लिए कोई प्रावधान नहीं है।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

कभी विदेशों को जीतने के लिए आक्रमण नहीं किया, खुद में सुधार करके कमियों पर विजय पाई: मोदी कभी विदेशों को जीतने के लिए आक्रमण नहीं किया, खुद में सुधार करके कमियों पर विजय पाई: मोदी
Photo: @BJP4India X account
हुब्बली: नेहा की हत्या के आरोपी फैयाज के पिता ने कहा- ऐसी सजा मिलनी चाहिए, ताकि ...
पाकिस्तान में आतंकवादियों ने फ्रंटियर कोर के सैनिक और 2 सरकारी अधिकारियों की हत्या की
उच्च न्यायालय ने बीएच सीरीज वाहन पंजीकरण पर नई शर्तें लगाने वाले परिपत्र को रद्द किया
राहुल ने फिर उठाया 'जाति और आबादी' का मुद्दा, कहा- सरकार नहीं चाहती 'भागीदारी' बताना
बेंगलूरु में बोले मोदी- कांग्रेस ने टैक्स सिटी को टैंकर सिटी बना दिया
भाजपा के 'न्यू इंडिया' में असहमति की आवाजें खामोश कर दी जाती हैं: प्रियंका वाड्रा