अर्थव्यवस्था में किसानों की भागीदारी सुनिश्चित करने की जरूरत : बीरेन्द्रसिंह

अर्थव्यवस्था में किसानों की भागीदारी सुनिश्चित करने की जरूरत : बीरेन्द्रसिंह

उदयपुर। केन्द्रीय इस्पात मंत्री चौधरी बीरेन्द्रसिंह ने कहा कि देश की आर्थिक व्यवस्था में किसानों की भागीदारी को सुनिश्चित करने की जरूरत हैं।चौधरी मंगलवार को यहां केन्द्र सरकार की तीन वर्ष की उपलब्धियों को कार्यकर्ताओं के माध्यम से आमजन तक पहुंचाने के लिए तैयार किए गए मोदी रथ को हरी झंडी दिखाने के बाद मीडिया से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि किसान केवल अन्न पैदा करने के लिए नहीं है बल्कि किसानों को भी वह सभी सुविधाएं मिलनी चाहिए जो अन्य को मिलती रही हैं जैसे किसानों के बच्चे अच्छे स्कूलों में पढाने, साथ ही उनके माता-पिता को भी अच्छे हॉस्पीटल में इलाज मिलना जरूरी हैं। उन्होंने कहा कि किसानों की आमदनी को दुगुना करने का मतलब सरकार के पास प़डे बीस लाख करो़ड रुपए को घुमाना होगा ताकि अर्थव्यवस्था और किसान मजबूत हो सके। मध्यप्रदेश में चल रहे किसानों के आंदोलन पर उन्होंने कहा कि आंदोलन के क्या कारण रहे है इस पर सोचने की जरूरत हैं। एक सवाल के जबाव में चौधरी ने कहा कि मोदी सरकार के तीन वर्ष में जितने कार्य हुए हैं उतने कार्य पिछले ७० वर्षों में नहीं हुए हैं और कार्यो में गति लाने के लिए सरकार तत्पर हैं। इतना ही नहीं बढते हुए कारवे को रोकने के लिए कई ताकतें कार्य कर रही है लेकिन मोदी सरकार के कार्य सही दिशा में हो रहे हैं या नहीं यह तो आम जनता बताएगी।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

कभी विदेशों को जीतने के लिए आक्रमण नहीं किया, खुद में सुधार करके कमियों पर विजय पाई: मोदी कभी विदेशों को जीतने के लिए आक्रमण नहीं किया, खुद में सुधार करके कमियों पर विजय पाई: मोदी
Photo: @BJP4India X account
हुब्बली: नेहा की हत्या के आरोपी फैयाज के पिता ने कहा- ऐसी सजा मिलनी चाहिए, ताकि ...
पाकिस्तान में आतंकवादियों ने फ्रंटियर कोर के सैनिक और 2 सरकारी अधिकारियों की हत्या की
उच्च न्यायालय ने बीएच सीरीज वाहन पंजीकरण पर नई शर्तें लगाने वाले परिपत्र को रद्द किया
राहुल ने फिर उठाया 'जाति और आबादी' का मुद्दा, कहा- सरकार नहीं चाहती 'भागीदारी' बताना
बेंगलूरु में बोले मोदी- कांग्रेस ने टैक्स सिटी को टैंकर सिटी बना दिया
भाजपा के 'न्यू इंडिया' में असहमति की आवाजें खामोश कर दी जाती हैं: प्रियंका वाड्रा