पा-बसपा सरकारों ने अयोध्या के साथ किया सौतेला व्यवहार : योगी

पा-बसपा सरकारों ने अयोध्या के साथ किया सौतेला व्यवहार : योगी

AYODHYA, MAY 31 (UNI)- Uttar Pradesh Chief Minister Yogi Aditiyanath performing worship of Holy Suryu river, in Ayodhya on Wednesday. UNI PHOTO-142u

अयोध्या। ‘जय श्रीराम‘ के गगनभेदी नारों और क़डी सुरक्षा व्यवस्था के बीच उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विवादित धर्मस्थल में प्रतिष्ठापित ’’रामलला’’ के बुधवार को दर्शन किए। मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार अयोध्या आए योगी ने रामलला के दर्शन के पहले प्रसिद्ध हनुमानगढी मंदिर में भागवान हनुमान के सामने मत्था टेका। योगी के दर्शन के समय दोनों स्थलों पर सुरक्षा कारणों से आम दर्शनार्थियों के मंदिर में जाने पर रोक लगा दी गई थी। मुख्यमंत्री के हनुमानगढी में मौजूदगी के दौरान नीचे उनके कई समर्थक इन्तजार कर रहे थे। हनुमानगढी में हनुमान के दर्शन के लिए करीब डेढ सौ सीढियों पर चढकर जाना होता है। मूर्ति काफी ऊंचाई पर है। राजस्थान से आए उनके एक समर्थक ने कहा, मुझे अखबारों से पता चला है कि योगी रामलला के दर्शन करने आ रहे हैं। इसीलिए मैं भी यहां आ गया हूं। मैं उनसे मिलना चाहता हूं, मिलकर कहूंगा कि जल्द से जल्द नरेन्द्र मोदी के साथ मिलकर मंदिर निर्माण कराएं।योगी ने हनुमानगढी में करीब बीस मिनट बिताए। दर्शन के बाद उन्होंने मंदिर के पुजारियों से बातें की। उनके साथ फोटो खिंचवाए। युवा साधुओं ने सेल्फी ली। इसके बाद वह हनुमानगढी से करीब सात-आठ सौ मीटर की दूर पर स्थित विवादित रामजन्मभूमि पहुंचे। उन्होंने सुरक्षा मानकों का पूरा पालन करते हुए रामलला के दर्शन किए। मूर्ति से करीब ३० मीटर दूर बने एक प्लेटफार्म पर ख़डे होकर श्रद्धालु रामलला का दर्शन करते हैं। मूर्ति साफ दिखाई प़डे इसके लिए बिजली की मुकम्मल व्यवस्था रहती है। विवादित रामजन्मभूमि पर उन्होंने करीब ३० मिनट बिताए। रामलला के दर्शन के समय बाहर उनके कई समर्थक साधु संत लगातार जय श्रीराम के नारे लगा रहे थे। साधु रामेश्वर दास ने कहा, आज अयोध्या के लोग काफी उत्साहित हैं। यहां के लोग चाहते है कि राम मंदिर का निर्माण जल्द से जल्द हो। इसी बीच, कुछ लोग शंख बजाते भी दिखे। कई के हाथों में तो घंटा भी था जिसे वे लगातार बजा रहे थे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूर्ववर्ती समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) पर अयोध्या के साथ सौतेला व्यवहार करने का आरोप लगाते हुए बुधवार को कहा कि इस धार्मिक नगरी को विकास के नजरिये से प्राथमिकता देने के लिए ही इसे नगर निगम घोषित किया गया है। मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार अयोध्या आए योगी ने कहा कि अयोध्या के विकास को ही मुख्य एजेंडे में रखा गया है। पार्टी कार्यकर्ताओं से बात करते हुए योगी ने कहा कि अयोध्या के चौमुखी विकास के लिए उसे नगर निगम बनाया गया है। नगर निगम बनने के बाद अयोध्या के साथ-साथ पूरे जिले का सम्पूर्ण विकास होगा। उन्होंने कहा कि अयोध्या नगर निगम के विकास का खाका खींचने के लिए वह अधिकारियों के साथ यहां आए हैं, अयोध्या के गरिमा और महिमा के अनुरूप विकास हो जिससे विश्व के मानचित्र पर अयोध्या स्थापित हो सके। इसलिए सरकार ने तमाम बाधाओं कों दूर करते हुए अयोध्या को नगर निगम का दर्जा दे दिया। योगी ने कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि जनता ने जो भाजपा को प्रचण्ड बहुमत दिया हैं इससे सपा, बसपा घबरा गई है। इसलिए विरोधी दलों के लोग कानून व्यवस्था बिगा़डने में लगे हैं, उन्होंने सहारनपुर व नोएडा का जिक्र करते हुए कहा कि जो भी लोग कानून व्यवस्था के साथ खिलवा़ड किए हैं उन्हें चिन्हित कर लिया गया है उन्हें किसी भी हालत में बख्शा नहीं जाएगा। योगी ने कार्यकर्ताओं का आवाह्न किया कि अन्य दलों से कार्यशैली के मामले में अलग दिखें और श्रेष्ठ दिखें। ख्ैंख्य् ृय्द्यत्रर्‍ ·र्ैंर्‍ त्रज्श्च झ्द्य फ्द्यद्भरू ·र्ैंर्‍ द्नर्‍ ब्ह् द्यह्ज् ृय्द्यत्रर्‍मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वाराणसी में गंगा की तरह अयोध्या में रोज सरयू नदी की आरती के निर्देश दिए हैं। योगी ने सरयू का पूजन-अर्चन करने के बाद अधिकारियों को सरयू महोत्सव मनाने के साथ ही सरयू की नित्य आरती करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि राम की पैडी का विस्तारीकरण किया जाएगा। घाटों का निर्माण होगा और सरयू तथा अयोध्या का विकास किया जाएगा।ृत्रैंद्यय्श्चउुर्‍द्भ द्भह्ख् ्यख्रप्फ् झ्द्य ख्ह्द्यक्वझ्रुद्य द्बष्ठ्र द्भह्ख् ·र्ैंद्यष्ठ्रख्ष्ठ द्भह्ख्र्‍मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अन्तरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर अपने मंदिर गोरखपुर के गोरक्षपीठ में मौजूद रहेंगे। मंदिर सूत्रों ने यहां बताया कि गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ वर्ष २०१५ से प्रतिवर्ष आयोजित होने वाले योग शिविर व शिक्षक कार्यशाला का आगामी १५ जून के उद्घाटन सत्र में बतौर मुख्य अतिथि मौजूद रहेंगे। सूत्रों ने बताया कि सात दिन तक चलने वाले इस आयोजन का समापन योग दिवस यानी २१ जून को समारोहपूर्वक किया जाएगा और उद्घाटन सत्र में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री एवं गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ भी भाग लेंगे।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News