मेक इन इंडिया के नाम पर चल रहे फर्जी वेबसाइटें

मेक इन इंडिया के नाम पर चल रहे फर्जी वेबसाइटें

पुणे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ‘मेक इन इंडिया’’ अभियान के नाम पर लोगों को ठगने के आरोप में पुणे पुलिस के साइबर सेल ने चार लोगों को गिरफ्तार किया है। रिपोर्ट के मुताबिक, इन चारों आरोपियों ने देशभर के करीब २५ हजार लोगों से करो़डों रुपए ठगे हैं। चार में तीन आरोपी रुपेश अरविंद, संदीप लोखेंडे और परशुराम तांबे मुंबई के हैं जबकि भावीन जोशी गुजरात का रहने वाला है। ठगी का यह मामला तब सामने आया जब पुणे निवासी दो लोगों ने पुलिस को इस बारे में शिकायत दी।डिप्टी पुलिस कमिश्नर सुधीर ने बताया कि मुंबई निवासी तीनों आरोपी दसवीं पास है और इन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘मेक इन इंडिया’’ अभियान का नाम इस्तेमाल करते हुए कई फर्जी वेबसाइट्स बनाकर लोगों को ठगा है। इस काम में उनका साथ गुजरात निवासी जोशी ने दिया, जो एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर है। जोशी की मदद से इन्होंने फर्जी वेबसाइट्स को ऐसा बनाया जिससे की वे असली जैसी लगें।ॅष्ठफ्ष्ठ ब्ह्त्रर्‍ त्र्र्‍ ट्ठख्र्‍यह लोगों को मल्टी लेवल बिजनेस प्लान के नाम पर ठगते थे। लोगों से इन्वेस्टमेंट के नाम पर ७-७ हजार रुपए लेते थे। आरोपी लोगों को भरोसा दिलाते थे उनके इन्वेस्ट किए पैसे एक हफ्ते के अंदर ५ फीसदी लाभ सहित उन्हें वापस होंगे। अपनी इस ठगी को अंजाम देने के लिए इन लोगों ने कई शहरों में कार्यक्रम भी किए।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

हुब्बली: नेहा की हत्या के आरोपी फैयाज के पिता ने कहा- ऐसी सजा मिलनी चाहिए, ताकि ... हुब्बली: नेहा की हत्या के आरोपी फैयाज के पिता ने कहा- ऐसी सजा मिलनी चाहिए, ताकि ...
नेहा की अपने पिता के साथ एक तस्वीर। साभार: niranjan.hiremath.75 फेसबुक पेज।
पाकिस्तान में आतंकवादियों ने फ्रंटियर कोर के सैनिक और 2 सरकारी अधिकारियों की हत्या की
उच्च न्यायालय ने बीएच सीरीज वाहन पंजीकरण पर नई शर्तें लगाने वाले परिपत्र को रद्द किया
राहुल ने फिर उठाया 'जाति और आबादी' का मुद्दा, कहा- सरकार नहीं चाहती 'भागीदारी' बताना
बेंगलूरु में बोले मोदी- कांग्रेस ने टैक्स सिटी को टैंकर सिटी बना दिया
भाजपा के 'न्यू इंडिया' में असहमति की आवाजें खामोश कर दी जाती हैं: प्रियंका वाड्रा
कांग्रेस एक ऐसी बेल, जिसकी अपनी न कोई जड़ और न जमीन है: मोदी