प्रशांत भूषण अवमानना मामला: उच्चतम न्यायालय ने सुनवाई टालने के लिए याचिका खारिज की

प्रशांत भूषण अवमानना मामला: उच्चतम न्यायालय ने सुनवाई टालने के लिए याचिका खारिज की

प्रशांत भूषण अवमानना मामला: उच्चतम न्यायालय ने सुनवाई टालने के लिए याचिका खारिज की

प्रशांत भूषण

नई दिल्ली/दक्षिण भारत/भाषा। सामाजिक कार्यकर्ता व वकील प्रशांत भूषण को उच्चतम न्यायालय से एक और झटका लगा है। उन्होंने न्यायालय में अपने खिलाफ अवमानना कार्यवाही में सजा सुनाने को लेकर होने वाली सुनवाई टालने की मांग की थी। न्यायालय ने सुनवाई टालने के लिए आग्रह वाली याचिका खारिज कर दी है।

उच्चतम न्यायालय ने प्रशांत भूषण से कहा, हम आपको विश्वास दिला सकते हैं कि जब तक आपकी पुनर्विचार याचिका पर फैसला नहीं होता, सजा संबंधी कोई कार्यवाही नहीं की जाएगी। प्रशांत भूषण ने न्यायालय से कहा कि उनके खिलाफ अवमानना कार्यवाही में सजा पर दलीलें अन्य पीठ को सुननी चाहिए। न्यायालय ने कहा कि आप (भूषण) हमसे अनुचित काम करने को कह रहे हैं कि सजा पर दलीलें किसी अन्य पीठ को सुननी चाहिए।

बता दें कि न्यायपालिका के लिए अपमानजनक दो ट्वीट करने के कारण अवमानना के दोषी ठहराए गए प्रशांत भूषण ने 20 अगस्त को सजा के लिए होने वाली सुनवाई स्थगित करने का उच्चतम न्यायालय से बुधवार को अनुरोध किया। भूषण ने कहा कि 14 अगस्त के फैसले पर पुनर्विचार याचिका दायर होने तथा उस पर विचार होने तक कार्यवाही टाली जाए।

शीर्ष अदालत ने प्रशांत भूषण को न्यायपालिका के बारे में अपमानजनक ट्वीट के लिए उन्हें आपराधिक अवमानना का दोषी ठहराया था और कहा था कि इन्हें जनहित में न्यायपालिका के कामकाज की निष्पक्ष आलोचना नहीं कहा जा सकता है।न्यायालय ने कहा था कि वह 20 अगस्त को इस मामले में भूषण को दी जाने वाली सजा पर दलीलें सुनेगा।

प्रशांत भूषण ने अपने आवेदन में कहा है कि वह 14 अगस्त के आदेश का अध्ययन करने और इस पर उचित कानूनी सलाह के बाद पुनर्विचार याचिका दायर करना चाहते हैं। आवेदन में कहा गया है कि इस आदेश के परिणाम सांविधानिक दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण है, विशेषकर बोलने की आजादी के अधिकार के मामले में।

स्वत: संज्ञान लिए गए इस मामले में दाखिल आवेदन में कहा गया है, ‘आवेदक फैसले की तारीख से 30 दिन की सीमा के भीतर इसे दाखिल करेगा क्योंकि वह उच्चतम न्यायालय की नियमावली, 2013 के आदेश 43 के तहत इसका हकदार है। अत: यह अनुरोध किया जाता है कि इसके मद्देनजर सजा के लिए 20 अगस्त को होने वाली सुनवाई इस न्यायालय द्वारा पुनर्विचार याचिका पर विचार किए जाने तक स्थगित की जाए।’

भूषण ने कहा है कि पुनर्विचार याचिका पर विचार होने तक इसकी सुनवाई स्थगित करना संविधान के अनुच्छेद 21 में नागरिक को प्राप्त स्वतंत्रता के अधिकार के संबंध में सार्वजनिक नीति के मद्देनजर न्याय के हित में होगा। आवेदन में यह भी कहा गया है कि अगर न्यायालय सजा के मुद्दे पर सुनवाई करता है और कोई सजा देता है तो उस पर पुनर्विचार याचिका के तहत राहत का विकल्प खत्म होने तक के लिए रोक लगाई जाए।

अधिवक्ता कामिनी जायसवाल के माध्यम से दायर इस आवेदन में कहा गया है कि आपराधिक अवमानना की कार्यवाही में शीर्ष अदालत सुनवाई अदालत और अंतिम अदालत की तरह काम करती है। आवेदन मे कहा गया है, ‘अदालत की अवमानना कानून की धारा 19 (1) उच्च न्यायालय द्वारा अवमानना के दोषी व्यक्ति को अपील का कानूनी अधिकार प्रदान करती है। यह हकीकत है कि उच्चतम न्यायालय के आदेश के खिलाफ कोई अपील नहीं हो सकती, इसलिए अधिक सावधानी बरतना जरूरी है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि इस मामले में न्याय किया ही नहीं गया बल्कि यह किया गया नजर भी आए।’

भूषण ने कहा है कि यह संविधान के अनुच्छेद 21 में प्रदत्त मौलिक अधिकार के अनुरूप होगा। अन्यथा घोर अन्याय हो जाएगा क्योंकि इसके बाद दोषी अवमाननाकर्ता की स्वतंत्रता खतरे में डालने से पहले स्वत: शुरू की गई आपराधिक अवमानना की कार्यवाही से निकाले गए निष्कर्ष को परखने का मौका नहीं होगा।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

तटीय कर्नाटक में रेलवे विकास कार्यों में तेजी लाई जाएगी: केंद्रीय मंत्री सोमन्ना तटीय कर्नाटक में रेलवे विकास कार्यों में तेजी लाई जाएगी: केंद्रीय मंत्री सोमन्ना
Photo: VSomannaBJP FB page
ट्रंप पर हमले में ईरान का हाथ? जनरल सुलेमानी की हत्या होने के बाद खाई थी यह कसम!
कर्नाटक: वाल्मीकि निगम घोटाला मामले में ईडी ने पूर्व मंत्री नागेंद्र की पत्नी से पूछताछ की
बांग्लादेश में लगी आरक्षण आंदोलन की आग, झड़पों में कई लोगों की मौत
कई नेताओं ने छोड़ी अजित पवार की राकांपा, सु​प्रिया बोलीं- 'लोग बड़ी उम्मीदों से देख रहे'
कर्नाटक ने निजी क्षेत्र में कन्नड़ लोगों के लिए 100% कोटा अनिवार्य करने वाले विधेयक को मंजूरी दी
यह कैसा शांतिकाल?