राज्यसभा के पीठासीन उपसभापतियों के पैनल में कहकशां परवीन शामिल

राज्यसभा के पीठासीन उपसभापतियों के पैनल में कहकशां परवीन शामिल

नई दिल्ली। राज्यसभा के पीठासीन उपसभापतियों के पैनल में जद-यू की कहकशां परवीन को शामिल किया गया है। उच्च सदन की बैठक शुक्रवार को शुरू होने पर सभापति एम वेंकैया नायडू ने परवीन को सदन की कार्यवाही संचालित करने के लिए गठित पीठासीन उपसभापतियों के पैनल में नामांकित किए जाने की घोषणा की। परवीन हालिया समय में पैनल में शामिल की जाने वाली पहली महिला हैं। उन्होंने कहा कि गुरुवार को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर सदन में कई सदस्यों ने पीठासीन उपसभापतियों के पैनल में किसी महिला सदस्य को भी शामिल करने की मांग की थी जिसे स्वीकार कर लिया गया। नायडू ने कहा कि इस पैनल के लिए वह कहकशां परवीन को तीन अप्रैल से नामांकित करते हैं। उन्होंने बताया कि परवीन भाजपा के बासवाराज पाटिल का स्थान लेंगी जिनका कार्यकाल दो अप्रैल को समाप्त हो रहा है।सभापति ने बताया कि परवीन बिहार महिला आयोग की अध्यक्ष रह चुकी हैं। नायडू की इस घोषणा के बाद कांग्रेस की विप्लव ठाकुर ने उन्हें धन्यवाद कहा। इस पर नायडू ने चुटकी ली कि वह तो विप्लव को ही नामांकित करने वाले थे लेकिन पीठासीन उपसभापति बनने के बाद वह बोल नहीं पाएंगी। उन्होंने यह भी कहा कि हमारी भाषा में विप्लव का मतलब क्रांति होता है। गौरतलब है कि अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर सदन में विप्लव ठाकुर और अन्य सदस्यों ने पीठासीन उपसभापतियों के पैनल में किसी महिला सदस्य को शामिल किए जाने की मांग की थी।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

ऐसा लगता है कि कांग्रेस ने भ्रष्टाचार में पीएचडी कर ली: मोदी ऐसा लगता है कि कांग्रेस ने भ्रष्टाचार में पीएचडी कर ली: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि अब कांग्रेस के साथ एक और 'भ्रष्टाचारी पार्टी' जुड़ गई है
मोदी का रॉक मेमोरियल दौरा: भाजपा बोली- 'विपक्ष घबराया हुआ, उसे हार का डर'
धरती की परवाह किसे?
'भारतीय भाषाएं और एक भाषायी क्षेत्र के रूप में भारत' विषय पर सम्मेलन का उद्घाटन किया
मैसूरु: दपरे महाप्रबंधक ने मैसूरु रेलवे स्टेशन के पुनर्विकास कार्यों का निरीक्षण किया
राहुल गांधी 4 जून को ईवीएम पर ठीकरा फोड़ेंगे, 6 जून को छुट्टी मनाने थाईलैंड चले जाएंगे: शाह
प्रज्ज्वल मामला: सीएन अश्वत्थ नारायण बोले- इस एसआईटी से सच्चाई सामने लाने की उम्मीद नहीं