राजद को दो झटके: 5 एमएलसी ने थामा जदयू का दामन, उपाध्यक्ष पद से रघुवंश प्रसाद का इस्तीफा

राजद को दो झटके: 5 एमएलसी ने थामा जदयू का दामन, उपाध्यक्ष पद से रघुवंश प्रसाद का इस्तीफा

राजद को दो झटके: 5 एमएलसी ने थामा जदयू का दामन, उपाध्यक्ष पद से रघुवंश प्रसाद का इस्तीफा

रघुवंश प्रसाद सिंह

पटना/दक्षिण भारत/भाषा। राष्ट्रीय जनता दल (राजद) को मंगलवार को दो बड़े झटके लगे। उसके पांच विधान पार्षदों (एमएलसी) ने जदयू का दामन थाम लिया, वहीं दिग्गज नेता रघुवंश प्रसाद सिंह ने भी पार्टी के उपाध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया।

राजद के पांच एमएलसी एसएम क़मर आलम, संजय प्रसाद, राधा चरण सेठ, रणविजय कुमार सिंह और दिलीप राय ने बिहार विधान परिषद के कार्यवाहक सभापति अवधेश नारायण सिंह से मंगलवार को उनके कक्ष में मुलाकात कर राजद से इस्तीफा देने की सूचना उन्हें दी। इसके बाद उन्हें अलग समूह के रूप में मान्यता देने और उस समूह का जदयू में विलय किए जाने की अनुमति उन्होंने मांगी, जो उन्हें मिल गई।

राजद छोड़ने वाले इन एमएलसी के बाद उच्च सदन में जदयू की मुख्य सचेतक रीना यादव के अपनी पार्टी के सहमति पत्र के साथ कार्यवाहक सभापति अध्यक्ष से मुलाकात की जिस पर उन्होंने अपनी स्वीकृति दे दी। पांच एमएलसी के पार्टी छोड़ने के बाद 75 सदस्यीय सदन में राजद के सदस्यों की संख्या महज तीन रह गई है।

सत्तारूढ़ राजग सूत्रों ने संभावना व्यक्त की है कि बिहार विधान परिषद में आवश्यक संख्या बल नहीं होने के कारण राजद प्रमुख लालू प्रसाद की पत्नी और पार्टी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राबड़ी देवी सदन में नेता प्रतिपक्ष की अपनी कुर्सी गंवा सकती हैं।

इस बीच, कोविड-19 के कारण एम्स, पटना में भर्ती रघुवंश प्रसाद सिंह की पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के पद से इस्तीफे की घोषणा ने राजद की और मुश्किलें बढ़ा दी हैं। बाहुबली से राजनेता बने रामा सिंह को राजद में शामिल किए जाने की चर्चा से आहत रघुवंश ने स्पष्ट किया कि वे पार्टी को नहीं छोड़ रहे हैं।

2014 के लोकसभा चुनाव में रामा सिंह ने रामविलास पासवान की पार्टी लोजपा के उम्मीदवार के तौर पर रघुवंश को वैशाली लोकसभा सीट हराया था। जदयू के राष्ट्रीय महासचिव और लोकसभा में नेता राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह ने रघुवंश के इस्तीफे को लेकर राजद पर आरोप लगाया है कि पार्टी ने उन लोगों का कभी सम्मान नहीं किया जिन्होंने संगठन को सींचा है। यह दल केवल एक ही परिवार के हितों को ध्यान में रखते आया है। अगर रघुवंश हमसे जुड़ना चाहते हैं, तो उनका स्वागत है ।

राजद में यह घटनाक्रम ऐसे समय में हुआ है जब बिहार विधान परिषद की नौ सीटों के लिए आगामी छह जुलाई को चुनाव होना है। 242 सदस्यीय बिहार विधानसभा में सबसे अधिक 80 विधायकों वाली राजद ने इस चुनाव में अपने तीन उम्मीदवारों को मैदान में उतारने का फैसला किया है। पार्टी द्वारा उम्मीदवारों के नामों की घोषणा किया जाना अभी बाकी है।

हालांकि, राजग में आपसी तालमेल के साथ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जदयू तीन उम्मीदवारों को मैदान में उतारेगी और भाजपा दो सीटों पर चुनाव लड़ेगी। राजद की अगुवाई वाली पांच दलीय महागठबंधन में भी कांग्रेस को एक सीट मिलने की उम्मीद है। महागठबंधन में शामिल हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के संस्थापक अध्यक्ष जीतन राम मांझी की भी राजग में फिर से वापसी की अटकलें लगाई जा रही हैं।

इस बीच, राजद में उथल-पुथल ने पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के नेतृत्व में सहयोगी हिंदुस्तान अवाम मोर्चा को तिलमिला दिया और दबंग साथी पर वापस वार करने का मौका दिया। हिंदुस्तान अवाम मोर्चा के प्रवक्ता दानिश रिजवान ने राजद के घटनाक्रम पर कहा कि राजद अपने वफादार जमीनी स्तर के कार्यकर्ताओं को नजरअंदाज करने का नतीजा भुगत रहा है। इसे अपने तरीके से सुधार करना चाहिए और अपने लोगों के साथ, महागठबंधन के अन्य सहयोगी दलों से सम्मान के साथ व्यवहार करना शुरू करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि राजद ने अगर अपने भीतर बदलाव नहीं किया तो एक दिन ऐसा आ सकता है कि जब यह दल अलग-थलग पड़ जाएगा और इसमें लालू प्रसाद के परिवार के सदस्य ही होंगे।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

आज सब्जी बेचने वाला भी डिजिटल पेमेंट लेता है, यह बदलता भारत है: नड्डा आज सब्जी बेचने वाला भी डिजिटल पेमेंट लेता है, यह बदलता भारत है: नड्डा
नड्डा ने कहा कि लालू यादव, तेजस्वी और राहुल गांधी कहते थे कि भारत तो अनपढ़ देश है, गांव में...
राजकोट: गेमिंग जोन में आग मामले में अब तक पुलिस ने क्या कार्रवाई की?
पीओके भारत का है, उसे लेकर रहेंगे: शाह
जैन मिशन अस्पताल द्वारा महिलाओं के लिए निःशुल्क सर्वाइकल कैंसर और स्तन जांच शिविर 17 जून तक
राजकोट: गुजरात उच्च न्यायालय ने अग्निकांड का स्वत: संज्ञान लिया, इसे मानव निर्मित आपदा बताया
इंडि गठबंधन वालों को देश 'अच्छी तरह' जान गया है: मोदी
चक्रवात 'रेमल' के बारे में आई यह बड़ी खबर, यहां रहेगा ज़बर्दस्त असर