तेदेपा प्रमुख ने की राहुल से मुलाकात, भाजपा विरोधी मोर्चा मजबूत बनाने पर चर्चा

तेदेपा प्रमुख ने की राहुल से मुलाकात, भाजपा विरोधी मोर्चा मजबूत बनाने पर चर्चा

तेदेपा प्रमुख चंद्रबाबू नायडू

नई दिल्ली/भाषा। तेदेपा प्रमुख चंद्रबाबू नायडू ने शनिवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की और चुनाव नतीजे घोषित होने के बाद भाजपा को सत्ता से बाहर रखने के लिए भाजपा विरोधी मोर्चे को मजबूत बनाने पर चर्चा की।

कांग्रेस प्रमुख से मुलाकात करने से पहले नायडू ने भाकपा नेता सुधाकर रेड्डी और डी राजा से भी मुलाकात की। नायडू भाजपा विरोधी मोर्चा बनाने की कोशिशों का नेतृत्व कर रहे हैं।

नायडू का यहां राकांपा प्रमुख शरद पवार और एलजेडी नेता शरद यादव से मुलाकात का कार्यक्रम है। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री का शाम को लखनऊ में बसपा प्रमुख मायावती और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से भी मुलाकात करने का कार्यक्रम है।

सूत्रों ने बताया कि गांधी के साथ एक घंटे तक चली बैठक में नायडू ने 23 मई को लोकसभा चुनाव के नतीजे घोषित होने के बाद भाजपा के खिलाफ सभी दलों को एक साथ लाने की जरूरत पर चर्चा की।

सूत्रों ने बताया कि नायडू ने गांधी से यह भी कहा कि अगर भाजपा को पर्याप्त सीटें नहीं मिलतीं और फिर भी सरकार बनाने का दावा करती है तो ऐसी स्थिति में रणनीति तैयार रखो।

उन्होंने बताया कि नायडू इस मुद्दे पर तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी के साथ भी फोन पर संपर्क में हैं। नायडू ने शुक्रवार को कहा था कि न केवल तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) बल्कि भाजपा के खिलाफ किसी भी पार्टी का महागठबंधन में स्वागत है।

उन्होंने इस मुद्दे को लेकर आप संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ ही माकपा नेता सीताराम येचुरी से भी मुलाकात की। सात चरणों का चुनाव रविवार को खत्म हो जाएगा और मतगणना 23 मई को होगी।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

सपा-कांग्रेस के 'शहजादों' को अपने परिवार के आगे कुछ भी नहीं दिखता: मोदी सपा-कांग्रेस के 'शहजादों' को अपने परिवार के आगे कुछ भी नहीं दिखता: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि सपा सरकार में माफिया गरीबों की जमीनों पर कब्जा करता था
केजरीवाल का शाह से सवाल- क्या दिल्ली के लोग पाकिस्तानी हैं?
किसी युवा को परिवार छोड़कर अन्य राज्य में न जाना पड़े, ऐसा ओडिशा बनाना चाहते हैं: शाह
बेंगलूरु हवाईअड्डे ने वाहन प्रवेश शुल्क संबंधी फैसला वापस लिया
जो काम 10 वर्षों में हुआ, उससे ज्यादा अगले पांच वर्षों में होगा: मोदी
रईसी के बाद ईरान की बागडोर संभालने वाले मोखबर कौन हैं, कब तक पद पर रहेंगे?
'न चुनाव प्रचार किया, न वोट डाला' ... भाजपा ने इन वरिष्ठ नेता को दिया 'कारण बताओ' नोटिस