सेक्युलर मोर्चे के तौर पर शिवपाल ने साधे कई निशाने, क्या सपा को होगा नुकसान?

सेक्युलर मोर्चे के तौर पर शिवपाल ने साधे कई निशाने, क्या सपा को होगा नुकसान?

शिवपाल सिंह यादव

देवरिया/वार्ता। ‘यादव परिवार’ में टूट के परिणामस्वरूप अस्तित्व में आए समाजवादी सेक्युलर मोर्चा ने समाजवादी पार्टी (सपा) प्रभावित क्षेत्रों में सेंध लगानी शुरू कर दी है। राजनीतिक विश्लेषकों के अनुसार, सपा के संगठनात्मक ढांचे में खासी पकड़ रखने वाले शिवपाल का अलग दल बनाना निश्चित रूप से पार्टी को नुकसान पहुंचाएगा।

लोकसभा चुनाव से ठीक पहले यादव परिवार में दरार का असर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के लिए कठिन चुनौती पेश कर सकता है। सपा के प्रभाव वाले इटावा, मैनपुरी, कन्नौज, एटा, फर्रूखाबाद और आगरा जैसे जिलों में शिवपाल समर्थकों की खासी तादाद है।

सपा के असंतुष्ट गुट के एक नेता ने कहा कि शिवपाल ने अपने मोर्चे के जरिए समाजवादी पार्टी में हाशिये पर चल रहे कई नेताओं और कार्यकर्ताओं के लिये एक विकल्प तैयार कर दिया है जो लोकसभा चुनाव से पहले सपा का जायका खराब करने के लिये तैयार है। लगातार उपेक्षा की वजह से सपा में हाशिये पर आए शिवपाल का नया मोर्चा चुनाव में बेहतर प्रदर्शन के लिए लालायित है।

हालांकि इसका बुरा असर सपा पर पड़ना तय है। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी के धुरंधर नेताओं में रहे शिवपाल का यह नया मोर्चा सपा को किसी न किसी रूप से नश्तर की माफिक चुभ सकता है। सपा में मुलायम सिंह यादव के समय से ही शिवपाल की पार्टी संगठन पर मजबूत पकड़ मानी जाती थी।

चुनाव में टिकट बंटवारे से लेकर मंत्रिमंडल गठन में उनकी सुनी जाती थी। कई सालों से सपा में घुट रहे शिवपाल अपनी नई पार्टी के गठन के बारे में सोच रहे थे लेकिन हर बार मुलायम सिंह दीवार के रूप में आ जाते थे। लोकसभा चुनाव के ठीक पहले शिवपाल ने अपना सेक्युलर मोर्चा का गठन कर एक तीर से कई निशाना लगाने की तैयारी कर ली है।

ये भी पढ़िए:
– इटली के वो 4 कानून जिन्हें जानकर आप हैरान रह जाएंगे, न मानने पर पड़ जाते हैं लेने के देने
– 10 साल की मासूम से दुष्कर्म पर सख्त सजा, अदालत ने सुनाई 160 साल की जेल
– क्या विमान दुर्घटना में हुई थी नेताजी सुभाष की मृत्यु? अब अस्थियों के डीएनए पर विवाद
– क्या मप्र में ये 3 पार्टियां मिलकर देंगी कांग्रेस को जोरदार झटका? चल रही तालमेल की तैयारी

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

ईरानी राष्ट्रपति का निधन, अब कौन संभालेगा मुल्क की बागडोर, कितने दिनों में होगा चुनाव? ईरानी राष्ट्रपति का निधन, अब कौन संभालेगा मुल्क की बागडोर, कितने दिनों में होगा चुनाव?
तेहरान/दक्षिण भारत। ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी का हेलीकॉप्टर हादसे में निधन होने के बाद इस मुल्क की बागडोर कौन...
बेंगलूरु में रेव पार्टी: केंद्रीय अपराध शाखा ने छापेमारी की तो मिलीं ये चीजें!
ओडिशा को विकास की रफ्तार चाहिए, यह बीजद की ढीली-ढाली नीतियों वाली सरकार नहीं दे सकती: मोदी
हेलीकॉप्टर हादसे में ईरान के राष्ट्रपति का निधन
आज लोकसभा चुनाव के 5वें चरण का मतदान, अब तक डाले गए इतने वोट
मंदिर: एक वरदान
उप्र: रैली को बिना संबोधित किए ही लौटे राहुल और अखिलेश, यह थी वजह