वाजपेयी की अस्थि कलश यात्रा पर बोले आज़म- ‘मौत के बाद खूब सम्मान मिले तो आज मर जाऊं’

वाजपेयी की अस्थि कलश यात्रा पर बोले आज़म- ‘मौत के बाद खूब सम्मान मिले तो आज मर जाऊं’

आजम खान

लखनऊ। दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थियां धार्मिक रीतियों के अनुसार देश की विभिन्न नदियों और जलस्रोतों में प्रवाहित की जा रही हैं। इस दौरान हजारों लोग उन्हें नमन करने आ रहे हैं, लेकिन विपक्ष के कुछ नेताओं को इस पर भी ऐतराज है। अब समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता और उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री आजम खान ने वाजपेयी की अस्थि कलश यात्रा पर तंज कसा है।

आजम खान कहते हैं कि यदि उन्हें मालूम हो जाए कि उनकी मौत के बाद उन्हें काफी मान—सम्मान मिलेगा तो वे आज ही मरना पसंद करेंगे। इसके बाद सोशल मीडिया पर काफी लोगों ने आजम के बयान की निंदा की है। यूजर्स का कहना है कि एक वरिष्ठ नेता से वे ऐसे बयान की उम्मीद नहीं करते। स्व. वाजपेयी भारत के पूर्व प्रधानमंत्री थे और उनका राजनीतिक कद बहुत बड़ा था। अगर लोग उन्हें श्रद्धासमुन अर्पित करते हैं तो आजम को क्या परेशानी है? कई यूजर्स ने प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहरलाल नेहरू का उल्लेख किया, जिनकी भस्म देश के कई हिस्सों में बिखेरी गई थी।

उल्लेखनीय है कि 16 अगस्त को वाजपेयी के निधन के बाद देश में करोड़ों लोगों ने शोक व्यक्त किया था। वाजपेयी सक्रिय राजनीति से दूर थे लेकिन उनकी अंतिम यात्रा में लाखों लोग आए। देश के हर हिस्से से वाजपेयी की क​ई यादें जुड़ी हुई हैं। इसलिए उनकी अस्थि और भस्म का विभिन्न नदियों एवं जलस्रोतों में विसर्जन किया जा रहा है।

यात्रा में शामिल होने वाले लोग इस कलश के दर्शन करते हैं। इनमें से ऐसे लोगों की काफी संख्या होती है जो वाजपेयी के अंतिम दर्शन करने दिल्ली नहीं जा पाए, लेकिन विपक्ष के कुछ राजनेताओं को यह पसंद नहीं आ रहा। अब आजम खान ने तो अपने दिल की बात कह दी है।

आजम को लगता है कि यह कलश यात्रा और पुण्य स्थानों पर अस्थियों का विसर्जन राजनीतिक इस्तेमाल है। उन्होंने कहा, यदि मैं किसी भी तरह यह जान पाया कि मेरे मरने के बाद मुझे बहुत सम्मान मिलना है तो मैं आज ही मरना पसंद करूंगा। .. उनके इस बयान पर कई लोग खफा हो गए।

ये भी पढ़िए:
– लो जी, कबूतर और हिरन के बाद अब सनी लियोनी भी बन गईं उत्तर प्रदेश की वोटर! जानिए मामला
– अब इस गाने पर जमकर नाचे डब्बू अंकल, सोशल मीडिया पर धमाल मचा रहा वीडियो
– आयुर्वेद की यह अकेली दवा रखती है 20 से ज्यादा बीमारियों को दूर, एक में समाए अनेक फायदे
– इस गांव में सदियों पहले सभी लोगों का हुआ था कत्ल, यहां कोई नहीं मनाता रक्षाबंधन

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

क्या मोदी का विवेकानंद रॉक मेमोरियल जाकर ध्यान करना आचार संहिता का उल्लंघन होगा? क्या मोदी का विवेकानंद रॉक मेमोरियल जाकर ध्यान करना आचार संहिता का उल्लंघन होगा?
अयोध्या/दक्षिण भारत। श्रीराम जन्मभूमि मंदिर के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कन्याकुमारी में ध्यान के...
ऐसा लगता है कि कांग्रेस ने भ्रष्टाचार में पीएचडी कर ली: मोदी
मोदी का रॉक मेमोरियल दौरा: भाजपा बोली- 'विपक्ष घबराया हुआ, उसे हार का डर'
धरती की परवाह किसे?
'भारतीय भाषाएं और एक भाषायी क्षेत्र के रूप में भारत' विषय पर सम्मेलन का उद्घाटन किया
मैसूरु: दपरे महाप्रबंधक ने मैसूरु रेलवे स्टेशन के पुनर्विकास कार्यों का निरीक्षण किया
राहुल गांधी 4 जून को ईवीएम पर ठीकरा फोड़ेंगे, 6 जून को छुट्टी मनाने थाईलैंड चले जाएंगे: शाह