द्रमुक और दिनाकरण कर रहे हैं सरकार गिराने की कोशिश : जयकुमार

द्रमुक और दिनाकरण कर रहे हैं सरकार गिराने की कोशिश : जयकुमार

चेन्नई। राज्य के मतस्य मंत्री डी जयकुमार ने गुरुवार को कहा कि राज्य की मुख्य विपक्षी पार्टी द्रवि़ड मुनेत्र कषगम (द्रमुक) और अखिल भारतीय अन्ना द्रवि़ड मुनेत्र कषगम (अन्नाद्रमुक) के बागी नेता टीटीवी दिनाकरण दोनों मिल कर राज्य सरकार को गिराने का षडयंत्र रच रहे हैं। उन्होंने कहा कि किसी भी ताकत द्वारा राज्य सरकार को गिराने की कोशिश को सफल नहीं होने दिया जाएगा। मुख्यमंत्री ईडाप्पाडी के पलानीस्वामी मंत्रिमंडल के वरिष्ठ मंत्री जयकुमार ने कहा कि द्रमुक के कार्यकारी अध्यक्ष एमके स्टालिन को राज्य की सत्तारुढ अन्नाद्रमुक पर लोकतंत्र की हत्या करने का आरोप लगाने का कोई अधिकार नहीं है क्योंकि द्रमुक विधानसभा के अंदर और विधानसभा के बाहर अलोकतांत्रिक गतिविधियों के लिए जानी जाती रही है।जयकुमार ने कहा कि जो लोग खुद शीशे के घरों में रहते हैं उन्हें दूसरों के घरों पर पत्थर नहीं फेंकना चाहिए। जयकुमार ने यहां पत्रकारों से कहा कि स्टालिन और उनकी पार्टी को हम पर लोकतंत्र की हत्या करने का आरोप लगाने का नैतिक अधिकार नहीं है। उन्हें याद करना चाहिए कि उनकी पार्टी ने किस प्रकार अलोकतांत्रित गतिविधियों में हिस्सा लिया है। उन्होंने कहा कि आज सरकार पर जो लोग उंगलियां उठा रहे हैं उन्हें अपने अंदर झांक कर देखने की कोशिश करनी चाहिए इसके बाद उन्हें खुद ही एहसास हो जाएगा कि कौन लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं का पालन करने वाला है और कौन इसके सिद्धांतों को नजरअंदाज करने वाला?उन्होंने याद दिलाया कि द्रमुक के सदस्यों ने कई बार राज्य विधानसभा में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और अन्नाद्रमुक के संस्थापक एमजी रामचंद्रन और राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता के खिलाफ असंसदीय भाषा का इस्तेमाल किया है। उन्होंने कहा कि एक पार्टी जिसने विधानसभा में महिला (पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता) के खिलाफ अपमानजनक शब्दों का उपयोग किया हो उसे इस बात का कोई नैतिक अधिकार नहीं है कि वह हम पर लोकतंत्र की हत्या का आरोप मढे। किसी भी विधानसभा में एक महिला को अपमानित करना और वह भी एक मुख्यमंत्री पद संभालने वाली महिला के खिलाफ अपशब्दों का उपयोग करना लोकतंत्र की मर्यादा का उल्लंघन नहीं है क्या?मत्स्य मंत्री ने आरोप लगाया कि स्टालिन बागी नेता दिनाकरण के साथ मिलकर राज्य की अन्नाद्रमुक सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन इस नाव को कोई हिला नहीं सकता। पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता द्वारा स्थापित यह सरकार अपना कार्यकाल पूरा करेगी और इसे कोई गिरा नहीं सकता। कोई भी ताकत इस सरकार को गिराने की कोशिश करेगी तो हम उसे सफल नहीं होने देंगे। उन्होंेने कहा कि सरकार मजबूत है और यह लोकतांत्रिक परंपराओं का पालन कर लोगों को अच्छा शासन सुनिश्चित करने के लिए कार्य कर रही है। पूर्व केन्द्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम द्वारा राज्य के मौजूदा राजनीतिक हालात के बारे मंें की गई टिप्पणी के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि कांग्रेस खुद ही डूब रही है और उन्हें पहले अपनी पार्टी को बचाने पर ध्यान देना चाहिए।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

पहले की सरकारें ग्रामीण अर्थव्यवस्था की जरूरतों को टुकड़ों में देखती थीं: मोदी पहले की सरकारें ग्रामीण अर्थव्यवस्था की जरूरतों को टुकड़ों में देखती थीं: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले 10 वर्षों में भारत में दूध उत्पादन में करीब 60 प्रतिशत वृद्धि हुई है
ईडी ने अरविंद केजरीवाल को नया समन जारी किया
सीबीआई ने सत्यपाल मलिक के परिसरों सहित 30 से अधिक स्थानों पर छापे मारे
निवेश पर उच्च रिटर्न का वादा कर एक शख्स से 1.19 करोड़ रु. ठगे
नशे की प्रवृत्ति पर लगाम जरूरी
कर्नाटक सरकार ने अधिवक्ताओं के खिलाफ प्राथमिकी पर उप-निरीक्षक को निलंबित किया
'हार रहे उम्मीदवारों को जिताया' ... पाक के चुनावों में 'धांधली' के आरोपों पर क्या बोला अमेरिका?