राजस्थान और मध्य प्रदेश में लग सकता है बीजेपी को झटका?

राजस्थान और मध्य प्रदेश में लग सकता है बीजेपी को झटका?

नई दिल्ली। कर्नाटक में सबसे ब़डी पार्टी होने के बावजूद सरकार नहीं बना सकने वाली भारतीय जनता पार्टी के लिए मध्य प्रदेश और छत्तीसग़ढ से भी बुरी खबर आ रही है। मोदी सरकार के चार साल पूरे होने पर एबीपी न्यू़ज और सीएसडीएस-लोकनीति द्वारा किए गए संयुक्त सर्वे में यह निकलकर सामने आया है कि इस साल के आखिर में होने वाले राजस्थान और मध्यप्रदेश के आगामी विधानसभा चुनावों में बीजेपी की हालत पहले से खराब है।द्यय्ज्डत्र्य्द्म द्बष्ठ्र द्धढ्ढणक्कत्रय् ्यख्रक्व द्यब्य् ·र्ैंय्ैंख्श्नष्ठफ् ·र्ैंय् प्ह्ट्ट प्रय्ष्ठद्भद्यसर्वे के मुताबिक राजस्थान में बीजेपी को ३९ प्रतिशत, कांग्रेस को ४४ प्रतिशत और अन्य को १७ प्रतिशत वोट मिलने के आसार हैं। वहीं अगर बात करें पिछले चुनाव की तो २०१३ में हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी को ४५.१७ प्रतिशत, कांग्रेस को ३३.०७ प्रतिशत और अन्य को २१.७६ प्रतिशत वोट मिले थे। २०० सीटों वाली इस विधानसभा में बीजेपी के खाते में फिलहाल १६३ सीटें हैं।सर्वे के मुताबिक मध्य प्रदेश में भी बीजेपी को नुकसान होता दिख रहा है। सर्वे की मानें तो बीजेपी को ३४ प्रतिशत, कांग्रेस को ४९ प्रतिशत और अन्य को १७ प्रतिशत वोट मिलने के आसार हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में वोट शेयर की बात करें तो बीजेपी को ४४.८८७, कांग्रेस को ३६.३८७ और अन्य को १८.७४७७ वोट शेयर मिला था।२३० सीटों वाली मध्यप्रदेश विधानसभा में बीजेपी के खाते में फिलहाल १६५, तो कांग्रेस के खाते में ५८ सीटें हैं। एबीपी न्यू़ज और सीएसडीएस-लोकनीति द्वारा किया गया यह सर्वे २८ अप्रैल २०१८ से १७ मई २०१८ के बीच १९ राज्यों में ७०० जगहों की १७५ विधानसभा सीटों पर किया गया। इस सर्वे के दौरान १५८५९ लोगों की राय ली गई।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

अंजलि हत्याकांड: कर्नाटक के गृह मंत्री ने परिवार को इन्साफ मिलने का भरोसा दिलाया अंजलि हत्याकांड: कर्नाटक के गृह मंत्री ने परिवार को इन्साफ मिलने का भरोसा दिलाया
Photo: DrGParameshwara FB page
तृणकां-कांग्रेस मिलकर घुसपैठियों के कब्जे को कानूनी बनाना चाहती हैं: मोदी
अहमदाबाद: आईएसआईएस के 4 'आतंकवादियों' की गिरफ्तारी के बारे में गुजरात डीजीपी ने दी यह जानकारी
5 महीने चलीं उन फांसियों का रईसी से भी था गहरा संबंध! इजराइली मीडिया ने ​फिर किया जिक्र
ईरानी राष्ट्रपति का निधन, अब कौन संभालेगा मुल्क की बागडोर, कितने दिनों में होगा चुनाव?
बेंगलूरु में रेव पार्टी: केंद्रीय अपराध शाखा ने छापेमारी की तो मिलीं ये चीजें!
ओडिशा को विकास की रफ्तार चाहिए, यह बीजद की ढीली-ढाली नीतियों वाली सरकार नहीं दे सकती: मोदी