अगर चीन जी20 सम्मेलन में ‘बिगाड़ने वाले’ की भूमिका निभाएगा चीन तो क्या करेगा अमेरिका?

भारत 9 और 10 सितंबर को नई दिल्ली में वार्षिक जी20 शिखर सम्मेलन की मेजबानी कर रहा है

अगर चीन जी20 सम्मेलन में ‘बिगाड़ने वाले’ की भूमिका निभाएगा चीन तो क्या करेगा अमेरिका?

बाइडेन इस बात पर जोर देते रहेंगे कि अमेरिका यूक्रेन का तब तक समर्थन करेगा, जब तक उसे आवश्यकता होगी

वॉशिंगटन/भाषा। अमेरिका के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा है कि यह चीन को तय करना है कि वह नई दिल्ली में जी20 शिखर सम्मेलन में किस तरह की भूमिका निभाना चाहता है। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि अगर बीजिंग इसमें आना चाहता है और ‘बिगाड़ने वाले’ की भूमिका निभाना चाहता है, तो यह विकल्प उसके लिए उपलब्ध है।

अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन व्हाइट हाउस संवाददाता सम्मेलन में जी20 शिखर सम्मेलन पर भारत-चीन सीमा तनाव के प्रभाव को लेकर एक सवाल का जवाब दे रहे थे।

उन्होंने कहा, ‘जहां तक भारत और चीन के बीच तनाव का (जी20) शिखर सम्मेलन को प्रभावित करने का सवाल है तो यह वास्तव में चीन पर निर्भर है। अगर चीन इसमें आना चाहता है और बिगाड़ने वाले की भूमिका निभाना चाहता है तो निश्चित रूप से यह विकल्प उनके लिए उपलब्ध है।

सुलिवन ने कहा, मुझे लगता है कि जी20 का वर्तमान अध्यक्ष भारत उन्हें वह करने के लिए प्रोत्साहित करेगा जो अमेरिका और हर अन्य सदस्य, जी20 का हर दूसरा सदस्य करेगा, जो उन्हें जलवायु, बहुपक्षीय विकास, बैंक सुधार, ऋण राहत, प्रौद्योगिकी और भूराजनीतिक सवालों से इतर समस्या-समाधान और विकासशील देशों के लिए काम करने पर ध्यान केंद्रित करने के विषय पर रचनात्मक तरीके से आने के लिए प्रोत्साहित करेगा।

चीन के विदेश मंत्रालय ने सोमवार को घोषणा की कि चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग इस सप्ताह नयी दिल्ली में जी20 शिखर सम्मेलन में भाग नहीं लेंगे और प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व प्रधानमंत्री ली क्विंग करेंगे। मंत्रालय ने इस हाई-प्रोफाइल बैठक को सफल बनाने के लिए सभी पक्षों के साथ काम करने की बीजिंग की इच्छा व्यक्त की।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता माओ निंग ने एक संक्षिप्त बयान में कहा कि भारत सरकार के निमंत्रण पर ‘स्टेट काउंसिल’ के प्रमुख ली नौ और 10 सितंबर को नयी दिल्ली, भारत में आयोजित होने वाले 18वें जी20 शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे।

भारत नौ और 10 सितंबर को नई दिल्ली में वार्षिक जी20 शिखर सम्मेलन की मेजबानी कर रहा है।

सुलिवन ने कहा कि जी-20 शिखर सम्मेलन में राष्ट्रपति जो बाइडन स्पष्ट करेंगे कि अमेरिका वास्तविक प्रगति की उम्मीद करता है।

उन्होंने कहा, वह इस बात को लेकर स्पष्ट हैं कि सभी जी20 सदस्यों को रचनात्मक तरीके से एक साथ आना चाहिए, इसमें कोई अपवाद नहीं है। हम जलवायु से लेकर स्वास्थ्य और डिजिटल प्रौद्योगिकी तक अन्य प्रमुख प्राथमिकताओं पर भी प्रगति कर रहे हैं, जिसमें अधिक समावेशी डिजिटल परिवर्तन और एआई (कृत्रिम मेधा) विकास के लिए एक जिम्मेदार पथ और दृष्टिकोण के संबंध में प्रतिबद्धताएं शामिल हैं।

सुलिवन ने कहा कि वास्तविकता यह है कि रूस के (यूक्रेन पर) अवैध युद्ध ने सामाजिक और आर्थिक परिणामों को तबाह कर दिया है और धरती के सबसे गरीब देशों को इसका खामियाजा भुगतना पड़ रहा है।

उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति बाइडन अंतरराष्ट्रीय कानून, संयुक्त राष्ट्र घोषणापत्र के सिद्धांतों, क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता के सिद्धांतों के सम्मान में स्थापित एक न्यायसंगत और टिकाऊ शांति का आह्वान करेंगे, जो वह पहले भी करते रहे हैं।

सुलिवन ने कहा कि बाइडेन इस बात पर जोर देते रहेंगे कि इन सिद्धांतों का पालन करते हुए अमेरिका यूक्रेन का तब तक समर्थन करेगा, जब तक उसे आवश्यकता होगी।

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, अंतिम लेकिन महत्त्वपूर्ण बात यह है कि अमेरिका यह स्पष्ट कर देगा कि हम जी20 के लिए प्रतिबद्ध हैं, जो दुनिया की सभी प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं का वैश्विक समस्या के समाधान के वास्ते एक साथ आने का एक महत्वपूर्ण मंच है।

उन्होंने, इसी प्रतिबद्धता के तहत अमेरिका 2026 में जी20 की मेजबानी के लिए उत्सुक है।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

'मेक-इन इंडिया' के सपने को साकार करने में एचएएल की बहुत बड़ी भूमिका: रक्षा राज्य मंत्री 'मेक-इन इंडिया' के सपने को साकार करने में एचएएल की बहुत बड़ी भूमिका: रक्षा राज्य मंत्री
उन्होंने एचएएल के शीर्ष प्रबंधन को संबोधित किया
हर साल 4000 से ज्यादा विद्यार्थियों को ऑटोमोटिव कौशल सिखा रही टाटा मोटर्स की स्किल लैब्स पहल
भोजशाला: सर्वेक्षण के खिलाफ याचिका सूचीबद्ध करने पर विचार के लिए उच्चतम न्यायालय सहमत
इमरान ख़ान की पार्टी पर प्रतिबंध लगाएगी पाकिस्तान सरकार!
भोजशाला मामला: एएसआई ने सर्वेक्षण रिपोर्ट मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय को सौंपी
उच्चतम न्यायालय ने सीबीआई की एफआईआर को चुनौती देने वाली शिवकुमार की याचिका खारिज की
ईश्वर ही था, जिसने अकल्पनीय घटना को रोका, अमेरिका को एकजुट करें: ट्रंप