घर पर करना चाहते हैं योगाभ्यास? ​नियमितता बनाए रखने में ये तरीके होंगे मददगार

कई लोग उत्साह में आकर घर पर योगाभ्यास शुरू कर देते हैं, लेकिन एक हफ्ता बीतते-बीतते नियमितता गंवा देते हैं

घर पर करना चाहते हैं योगाभ्यास? ​नियमितता बनाए रखने में ये तरीके होंगे मददगार

Photo: PixaBay

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। आमतौर पर लोगों के लिए किसी योग स्टूडियो या शिविर आदि में जाकर नियमित योगाभ्यास करना आसान होता है। बात जब घर पर योगाभ्यास करने की हो तो नियमितता बनाए रखना थोड़ा मुश्किल होता है। 

कई लोग उत्साह में आकर घर पर योगाभ्यास शुरू कर देते हैं, लेकिन एक हफ्ता बीतते-बीतते नियमितता गंवा देते हैं। इससे योगाभ्यास की शुरुआत में जो फायदे हुए थे, वे बाद में गायब हो जाते हैं और ज़िंदगी दोबारा पुराने ढर्रे पर चलने लगती है।

ऐसे में बड़ा सवाल यह है कि घर पर योगाभ्यास करें तो नियमितता कैसे बनाए रखें? यहां आपको बताएंगे ऐसे तरीके, जिनसे आप घर पर नियमित योगाभ्यास कर सकेंगे।

1. सबसे पहली अपनी प्राथमिकताएं तय करें। आप योगाभ्यास क्यों करना चाहते हैं? आप इससे क्या लाभ प्राप्त करना चाहते हैं? बेहतर होगा कि इन बातों को एक डायरी में लिख लीजिए। जब आप उनके संबंध में मानसिक रूप से अधिक स्पष्टता की स्थिति में होंगे तो नियमित योगाभ्यास करने के लिए अधिक प्रेरित होंगे।

2. सुबह का योगाभ्यास आपको पूरे दिन ऊर्जावान बनाएगा। इसके लिए आपको अपना थोड़ा-सा समय देना है। अगर आप यह समय नहीं देंगे तो उससे हासिल कुछ नहीं होगा, बल्कि उन बड़े फायदों को गंवा देंगे। यह एक तरह से पूरी मेहनत पर पानी फेरने जैसा है। 

3. योगाभ्यास करने का सीधा-सा मतलब है- अपने तन और मन की बेहतरी में निवेश करना। अपनी सेहत का ध्यान रखना आपकी जिम्मेदारी है। हमारे ऋषियों ने योग के रूप में संसार के लिए ऐसा दिव्य ज्ञान छोड़ा है, जिसका रोजाना कुछ समय तक अभ्यास आपको वर्षों तक फायदा देगा। 

4. शुरुआत में योग की गहराई और महान दर्शन को पूरा समझने से बेहतर है कि बुनियादी बातों को जानिए और सरल योगासनों को अपने अभ्यास में शामिल कीजिए। एक ही दिन में बहुत सारे आसन करने का लक्ष्य बनाने से नियमितता में बाधा आती है। इसलिए सरल आसन चुनें, कम सख्या में चुनें और उन्हें सही तरीके से करें।

5. योगाभ्यास के लिए प्रतिबद्ध रहें। हालांकि नई आदत को दिनचर्या में शामिल करना और उसमें नियमितता बनाए रखना थोड़ा मुश्किल होता, लेकिन प्रतिबद्धता हो तो यह संभव है। रोजाना थोड़ा-थोड़ा समय देकर इसे अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाया जा सकता है।

6. खास योगासन में महारत हासिल करने का इरादा भी नियमितता बनाए रखने में मदद करेगा। इसके लिए किसी ऐसे योगासन का चयन करें, जो थोड़ा सरल हो और जिससे होने वाले शारीरिक-मानसिक लाभों की आपको ज्यादा जरूरत हो। जैसे- किसी को कब्ज की समस्या हो तो उसे ऐसे योगासन को चुनना चाहिए, जो पेट साफ करने में सहायक हो। 

7. खुद को चुनौती देना सीखें। जिस काम को चुनौती के रूप में स्वीकार करते हैं, उसे पूरा करने के लिए मन में उत्साह होता है। अपने परिवार या करीबी दोस्तों के सोशल मीडिया समूह में ऐसी चुनौती का जिक्र किया जा सकता है। जब उसे पूरा कर लें तो अपनी सफलता साझा करें।

8. जिस जगह योगाभ्यास करें, उसकी स्वच्छता और गरिमा बनाए रखें। यह ऐसी जगह होनी चाहिए, जिसका यथासंभव दूसरे कामों में इस्तेमाल न हो। यह जगह प्रेरक होनी चाहिए। वहां प्रसिद्ध योगियों के चित्र / वचन आदि लगाए जा सकते हैं। इससे आप जब निर्धारित समय पर वहां जाएंगे तो स्वत: योगाभ्यास की इच्छा पैदा होगी।

9. ऑनलाइन योग कक्षाओं में शामिल होना भी नियमितता बनाए रखने का अच्छा ​तरीका हो सकता है। किसी अनुभवी योग प्रशिक्षक के ऑनलाइन योगाभ्यास कार्यक्रम में शामिल होना एक तरह से स्कूल की कक्षाओं में भाग लेने जैसा होता है, जिसके लिए अनुशासन आ ही जाता है।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News