नवंबर में पैनल से रिपोर्ट मिलने के बाद जाति जनगणना को सार्वजनिक करने पर फैसला करेंगे: सिद्दरामैया

मुख्यमंत्री का यह बयान बिहार सरकार द्वारा अपने जाति सर्वेक्षण के आंकड़े जारी करने के कुछ दिनों बाद आया है

नवंबर में पैनल से रिपोर्ट मिलने के बाद जाति जनगणना को सार्वजनिक करने पर फैसला करेंगे: सिद्दरामैया

कर्नाटक राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष के जयप्रकाश ने कहा था कि वे नवंबर में राज्य सरकार को जाति जनगणना रिपोर्ट सौंपेंगे

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। राज्य की सामाजिक-आर्थिक और शैक्षणिक जनगणना, जिसे 'जाति जनगणना' के नाम से जाना जाता है, को सार्वजनिक करने के लिए अपनी सरकार पर दबाव बढ़ने के बीच, कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्दरामैया ने शनिवार को कहा कि अगले महीने रिपोर्ट मिलने के बाद इस पर निर्णय लिया जाएगा।

मुख्यमंत्री का यह बयान बिहार सरकार द्वारा अपने जाति सर्वेक्षण के आंकड़े जारी करने के कुछ दिनों बाद आया है।

इस सप्ताह की शुरुआत में, कर्नाटक राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष के जयप्रकाश ने कहा था कि वे नवंबर में राज्य सरकार को जाति जनगणना रिपोर्ट सौंपेंगे।

सिद्दरामैया ने यहां संवाददाताओं से कहा, 'जब कंथाराज की अध्यक्षता वाले आयोग ने रिपोर्ट दी, तो तत्कालीन मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने इसे नहीं लिया, अब आयोग के लिए एक अलग अध्यक्ष हैं। मैंने उनसे कंथाराज द्वारा दायर रिपोर्ट को ज्यों का त्यों प्रस्तुत करने के लिए कहा है। उन्होंने कहा है कि रिपोर्ट नवंबर में दी जाएगी, देखते हैं।'

सबसे पिछड़े वर्गों के अलग वर्गीकरण की मांग के बारे में पूछे जाने पर, जैसा कि अन्य राज्यों में किया जाता है, मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार इसे अपने आप नहीं कर सकती, इसके लिए एक रिपोर्ट होनी चाहिए ... एक बार पिछड़ा वर्ग आयोग की रिपोर्ट आ जाए तो हम इस पर विचार करेंगे।

साल 2015 में सिद्दरामैया के नेतृत्व वाली तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने राज्य में 170 करोड़ रुपए की अनुमानित लागत से सामाजिक-आर्थिक और शैक्षिक सर्वेक्षण शुरू किया था, जिसके निष्कर्ष अभी तक सार्वजनिक नहीं किए गए हैं।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News