mulayam and shivpal yadav
mulayam and shivpal yadav

लखनऊ। समाजवादी पार्टी से नाराज चल रहे शिवपाल यादव ने ‘समाजवादी सेक्युलर मोर्चा’ का निर्माण किया है। इस संबंध में ​उन्होंने कहा है कि मोर्चे से उन सभी नेताओं को जोड़ा जाएगा जो सपा में स्वयं को उपेक्षित महसूस कर रहे हैं। शिवपाल ने एक बड़ा दावा किया है। वे कहते हैं कि सपा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश की सियासत के दिग्गज मुलायम सिंह यादव को मोर्चे से जोड़ा जाएगा। शिवपाल के इस कदम के साथ ही उत्तर प्रदेश में सियासी चर्चा का दौर तेज हो गया है।

पिछले कई महीनों से सपा में जो उठापटक का दौर चला, उसके बाद यह माना जा रहा था कि शिवपाल खामोश नहीं बैठेंगे, बल्कि पार्टी से अलग राह अपनाएंगे। अब जबकि उन्होंने अलग मोर्चे का निर्माण कर दिया तो इसके कई मायने निकाले जा रहे हैं। शिवपाल ने ‘सपा’ में मुलायम सिंह यादव को पर्याप्त सम्मान न मिलने का मुद्दा उठाया है। उन्होंने कहा कि वे नेताजी को सम्मान न मिलने से बहुत आहत हैं। वे कहते हैं कि सेक्युलर मोर्चा छोटे राजनीतिक दलों से गठबंधन करेगा।

पिछले दिनों ही शिवपाल ने बयान दिया था कि वे सपा में हाशिए पर हैं और उन्हें कोई महत्वपूर्ण जिम्मेदारी नहीं दी जा रही। वहीं मुलायम सिंह यादव भी एक कार्यक्रम में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कह चुके हैं कि अब उनका कोई सम्मान नहीं करता। उन्होंने लोहिया के कथन का जिक्र करते हुए कहा कि यहां सब मरने के बाद ही सम्मान करते हैं। इन सबसे यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि सपा में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा।

शिवपाल द्वारा सेक्युलर मोर्चे का निर्माण उत्तर प्रदेश की राजनीति में क्या असर दिखाएगा, यह तो वक्त ही बताएगा, लेकिन इससे यह तो साबित हो गया कि यादव कुनबे में पड़ी फूट अब और गहरी होती जा रही है। चूंकि मुलायम सिंह यादव सपा नेतृत्व के रुख से खुश नहीं हैं। अगर ऐसे में शिवपाल उन्हें अपने मोर्चे में लाने में कामयाब हुए तो सपा के लिए आगे की राह किसी अग्निपरीक्षा से कम नहीं होगी।

ये भी पढ़िए:
– जिस महिला को समझ रहे थे एक मासूम कैब ड्राइवर, वह निकली खतरनाक गैंगस्टर
– खुरदरे हाथों से हैं परेशान तो आजमाएं ये अचूक नुस्खे, गुलाब की तरह मुलायम रहेगी आपकी त्वचा
– आईएस में आतंकी बनकर रहा यह खुफिया अधिकारी, पता चलने पर कर दी गर्दन कलम
– फर्जी दस्तावेजों से 38 लोग बन गए ‘गुरुजी’, पोल खुली तो हुए बर्खास्त

LEAVE A REPLY