बेंगलूरु/भाषाभारत के युगल टेनिस खिला़डी रोहन बोपन्ना ने कहा कि उन्हें कंधे की चोट से उबरने के लिए एशियाई खेलों से पहले रोजर्स कप से भी हटना प़ड सकता है। वह विम्बलडन में हटने के बाद से ही टेनिस नहीं खेल रहे हैं। अगर बोपन्ना एटीपी १००० सीरीज प्रतियोगिता से हटते हैं तो इसका मतलब है कि वह विम्बलडन चैम्पियनशिप के बाद बिना किसी प्रतिस्पर्धी मैच के एशियाई खेलों में पहुंचेंगे।बोपन्ना और उनके फ्रांसिसी जो़डीदार एडुआर्ड रोजर-वेसेलिन ने इस महीने के शुरू में पुरुष युगल स्पर्धा में दूसरे दौर का मैच भारतीय खिला़डी की चोट के कारण हटने से गंवा दिया था। इस चोट के कारण वह कम से कम तीन एटीपी विश्व टूर प्रतियोगिताओं में भाग नहीं ले पाए हैं जिसमें बास्टाड प्रतिस्पर्धा शामिल है जिसमें उन्होंने दिविज शरण के साथ खेलने की योजना बनाई थी जो एशियाई खेलों में उनके पुरुष युगल जो़डीदार होंगे।बोपन्ना ने एक कार्यक्रम के बाद कहा, मुझे चोट लगी थी जो ठीक हो रही है। डाक्टरों ने मुझे तीन हफ्तों के आराम की सलाह दी है। कल मेरे अभ्यास का पहला दिन था। आज मैंने बॉल हिट की और मंगलवार को मुझे सर्विस करनी है, देखते हैं यह कैसा रहता है। उन्होंने कहा, अगर मैं फिट महसूस करूंगा तो मैं टोरंटो (रोजर्स कप) के लिए जाऊंगा। अगर ऐसा नहीं होगा तो मैं नहीं खेलूंगा और एशियाई खेलों के लिए तैयारी में लगूंगा। रोजर्स कप एक मास्टर्स सीरीज प्रतियोगिता है, जो तीन से १२ अगस्त तक टोरंटो में होगी जबकि एशियाई खेल १८ अगस्त से इंडोनेशिया में शुरू होंगे। एशियाई खेलों के अभियान के बारे में बात करते हुए ३८ साल के इस खिला़डी ने कहा कि भारत के पास पदक जीतने का अच्छा मौका है।बोपन्ना ने कहा, हम बहुत मजबूत टीम के साथ वहां जा रहे हैं, इसे देखते हुए एशियाई खेलों में हमारे पास पदक जीतने का बि़ढया मौका है। मैं वहां खेलने के लिए उत्सुक हूं्। शरण के साथ जो़डी बनाने के बारे में बोपन्ना ने कहा कि इसमें कोई समस्या नहीं होनी चाहिए क्योंकि दोनों बीते समय में एक साथ खेल चुके हैं। उन्होंने कहा, इस खेल के कारण मैं इतने वर्षों में कई जो़डीदारों के साथ खेल चुका हूं और मुझे अब कोई समस्या नहीं होती। मैंने लंबे समय से दिविज को जानता हूं्। हम दोनों इंडियन ऑयल की टीम में भी साथ ही थे।रामकुमार रामनाथन और प्रज्नेश गुणेश्वरन के एशियाई खेलों की एकल स्पर्धा में मौके के बारे में पूछने पर बोपन्ना ने कहा कि युवा खिला़डी अच्छा कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY