भारत में बहुत से लोगों को पथरी की बीमारी होती है। इसका सबसे ब़डा कारण है गर्मी। गर्मी आते ही पथरी की बीमारी के मामले ४० प्रतिशत तक ब़ढ जाते हैं। शरीर में पानी की कमी, तापमान, आद्रता, डीहाईड्रेशन यह सभी पथरी की प्रॉब्लम को ब़ढाते हैं। भारत में ५० से ७० लाख लोग पथरी की बीमारी से ग्रसित हैं और १००० में से एक व्यक्ति को पथरी की बीमारी के कारण अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता होती है। जानें गर्मियों में पथरी से कैसे बचाव करें? :- पीएं भरपूर पानी : गर्मी में पथरी से बचने के लिए ज्यादा पानी पीना चाहिए। अगर आप हर दो घंटे में वॉशरूम नहीं जाते हैं तो इसका मतलब है कि आप ज्यादा मात्रा में पानी नहीं पी रहे हैं। नींबू शरबत : गर्मी में ज्यादा से ज्यादा नींबू का शरबत पीएं। नींबू का शरबत पीने से पथरी होने की संभावना बहुत कम होती है। साथ ही पेट की गर्मी भी कम होती है। यह काफी फायदेमंद होता है। सोडा से बनाएं दूरी : जिन पदार्थों में ऑक्सालेट की ज्यादा मात्रा होती है उनसे दूरी बनाएं। इनमें पीने का सोडा, आइस टी, चॉकलेट, रुबाब (एक प्रकार का फल), स्ट्रॉबेरीज और नट्स शामिल हैं। कैफीन : चाय या कॉफी जैसे तरल पदार्थों से दूर रहें। अगर आप ऐसा सोचते हैं कि आप ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थ ले रहे हैं, तो यह गलत है। ज्यादा कैफीन के कारण डीहाईड्रेशन हो सकता है। नमक कम : गर्मी में पथरी से बचने के लिए नमक कम खाएं। इसे रोजाना की आदत में शामिल करके कम से कम नमक खाना चाहिए क्योंकि यह पथरी में नुकसानदेह हो सकता है। डॉक्टर से सलाह : अपने डॉक्टर से सलाह लीजिए। उन दवाइयों के बारे में पूछें जो आपको पथरी से बचाने में सहायक हों। इसमें वे दवाइयां आती हैं जो यूरीन में ऐसिड, अल्कली और सिस्टइन को नियंत्रित करती हैं।

LEAVE A REPLY