naveen patnaik
naveen patnaik

बिलासपुर/वार्ता। छत्तीसगढ़ में बिलासपुर केंद्रीय जेल में बंद एक कैदी की ओर से ओडिशा के मुख्यमंत्री को धमकी भरा पत्र लिखे जाने के बाद पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि मिली जानकारी के अनुसार हत्या, लूट एवं डकैती के मामले में आजीवन कारावास की सजायाफ्ता केंद्रीय जेल में बंद पुष्पेन्द्रनाथ चौहान ने जेल के अंदर से ही ओडिशा के मुख्यमंत्री और अन्य पुलिस अधिकारियों को धमकी भरा पत्र लिखकर भेजा था।

अंग्रेजी में लिखे गए पत्र में 50 करोड़ रुपए की मांग की गई थी और रुपए नहीं दिए जाने पर जान से मार देने की धमकी दी गई। मुख्यमंत्री ने इसकी शिकायत ओडिशा पुलिस से की। मुख्यमंत्री और पुलिस अधिकारियों को धमकी भरा पत्र मिलने से ओडिशा पुलिस सकते में आ गई और पूरे मामले की जानकारी पुलिस महानिदेशक को दी गई।

पुलिस महानिदेशक ने इससे बिलासपुर पुलिस को अवगत कराया। बिलासपुर पुलिस अधीक्षक आरिफ शेख ने संपूर्ण मामले की की जांच का दायित्व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक नीरज चंद्राकर को सौंपा है। चंद्राकर ने मामले की गंभीरता को देखते हुए रविवार को केन्द्रीय जेल जाकर आरोपी पुष्पेन्द्रनाथ चौहान का बयान लिया और उससे पूछताछ शुरू कर दी है।

पूछताछ में उसने पत्र लिखने की बात स्वीकार किया और कहा कि उसने सुर्खियों में आने के लिए ऐसा किया। इस बीच जेल महानिदेशक गिरधारी नायक बिलासपुर जेल पहुंचे और जेल का निरीक्षण करने के साथ जेल अधिकारियों और आरोपी से पूछताछ की।

नायक ने मामले का अपराध की श्रेणी बताते हुए आरोपी पुष्पेंद्र के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज किए जाने के निर्देश दिए हैं। दूसरी तरफ पुलिस ने इस मामले में जेल प्रबन्धन की लापरवाही बताते हुए विवेचना शुरू कर दी है, हालांकि वह इस मामले का खुलासा करने से बच रही है।

जेल अधीक्षक एसएस तिरंगा से संपर्क किए जाने पर उन्होंने कहा कि वह अभी छुट्टी पर हैं और बिलासपुर लौटने के बाद ही इस मामले में कुछ बता सकेंगे।

ये भी पढ़िए:
– 24 अंगुलियों वाले शख्स की रिश्तेदार देना चाहते हैं बलि, तांत्रिक ने दिया मालामाल होने का झांसा
– ‘नोटबंदी से नहीं, एनपीए और राजन की वजह से गिरी विकास दर’
– इस बार बाड़मेर में किस करवट बैठेगा सियासत का ऊंट?
– कारोबारी संस्था का दावा, करेंसी नोटों से फैलती हैं टीबी, अल्सर समेत ये खतरनाक बीमारियां

Facebook Comments

LEAVE A REPLY