swami sanand
swami sanand

ऋषिकेश। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में भर्ती स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद का गुरुवार दोपहर को निधन हो गया। वे 87 साल के थे। वे कई दिनों से गंगा के लिए अनशन कर रहे थे। उनके देहांत की खबर मिलते ही उनके समर्थकों में शोक की लहर दौड़ गई। उनका असल नाम प्रोफेसर जीडी अग्रवाल था। वे आईआईटी में शिक्षक रह चुके थे।

स्वामी सानंद बुधवार को ही हरिद्वार प्रशासन द्वारा एम्स में भर्ती कराए गए थे। उन्होंने गंगा की पवित्रता को बरकरार रखने के लिए आमरण अनशन किया था। इसके लिए भोजन ही नहीं बल्कि जल का भी त्याग कर दिया था। एम्स प्रशासन ने इस बात की पुष्टि की है ​कि स्वामी सानंद अब नहीं रहे हैं।

बता दें कि स्वामी सानंद गंगा की रक्षा और निर्मलता बरकरार रखने की मांग करते हुए 22 जून से ही मातृसदन आश्रम में तपस्या कर रहे थे। उन्होंने 9 अक्टूबर से जल ग्रहण करना भी बंद ​कर दिया। इससे उनकी तबीयत बिगड़ गई। तब बुधवार को प्रशासन ने उन्हें एम्स में भर्ती करा दिया। प्रशासन ने उनके आश्रम के आसपास निषेधाज्ञा लागू की थी।

स्वामी सानंद ने 2012 में गंगा की निर्मलता के लिए एक ड्राफ्ट तैयार किया था। इसमें गंगा पर जल-विद्युत परियोजनाएं बंद करने जैसी कई मांगें थीं। मृत्यु से पूर्व उन्होंने अपना शरीर एम्स को ही दान कर दिया। अस्पताल प्रशासन ने कहा है कि उन्होंने शरीर दान करने की इच्छा जताई थी।

ये भी पढ़िए:
– पायलट बनते ही युवक ने निभाया वादा, गांव के 22 बुजुर्गों को कराया हवाई सफर
– बांग्लादेश: 2004 के ग्रेनेड कांड में दो पूर्व मंत्रियों समेत 19 लोगों को सजा-ए-मौत
– खूबसूरत लड़कियों के नाम से फेसबुक आईडी बनाकर पाक की आईएसआई ऐसे करवा रही जासूसी
– गरीबी में दिन काट रहे मजदूर की खुली किस्मत, खदान से मिला बेशकीमती हीरा

LEAVE A REPLY