कलबुर्गी/दक्षिण भारतराज्यपाल वजूभाई वाला ने भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बीएस येड्डीयुरप्पा को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के लिए आमंत्रित कर विपक्षी पार्टी जनता दल (एस) को बेहद नाराज कर दिया है। इसके कार्यकर्ता गुरुवार को भारतीय मार्क्सवादी पार्टी (भाकपा) कार्यकर्ताओं के साथ इस फैसले का तीखा विरोध करते हुए स़डकों पर उतर आए। पुलिस ने इनमें से २० कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया है। यह राजनीतिक कार्यकर्ता शहर के जगत सर्किल से विरोध मार्च शुरू कर डिप्टी कमिशनर कार्यालय तक पहुंचने की कोशिश कर रहे थे लेकिन पुलिस ने उन्हें जगत सर्किल पर ही रोक कर २० कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया। यह कार्यकर्ता भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे। राज्यपाल वजूभाई वाला के निर्णय के साथ ही भाजपा को विधानसभा में अपना बहुमत साबित करने के लिए १५ दिनों का समय दिए जाने की भी इन कार्यकर्ताओं ने तीखी निंदा की। विरोध प्रदर्शन से पूर्व पत्रकारों से बातचीत में भाकपा नेता मारुति मनपा़डे ने राज्यपाल के फैसले की आलोचना करते हुए कहा कि राज्य की सरकार गठित करने के लिए आमंत्रित की गई पार्टी को विधानसभा में बहुमत साबित करने की खातिर १५ दिनों का समय दिया जाना अपने-आप में अभूतपूर्व निर्णय है। उनके इस निर्णय से राज्य में विभिन्न दलों के विधायकों की खरीद-फरोख्त की घटनाएं तेज होंगी। उन्होंने संदेह जताया कि भाजपा खास तौर पर कांग्रेस और जनता दल (एस) के विधायकों को तो़डने की कोशिश कर रसकती है। मनपा़डे ने इसे लोकतंत्र विरोधी और दिन दहा़डे लोकतांत्रिक प्रणाली की हत्या की कोशिश बतार्इ्।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY