betray in marriage
betray in marriage

गाजियाबाद। भारत में विवाह को जन्म-जन्म का बंधन समझा जाता है लेकिन कुछ लोगों के लिए यह सिर्फ मालामाल होने का एक जरिया बन चुका है। गाजियाबाद में इन दिनों लुटेरी दुल्हनों के गैंग की कहानियां पढ़कर तो यही लगता है। विभिन्न रिपोर्टों के अनुसार, हाल में इन लुटेरी दुल्हनों ने कम से कम 27 युवकों से धोखाधड़ी की और ​फरार हो गईं। इनके पीछे पूरा गैंग काम कर रहा है। ये दुल्हनें शादी करती हैं और उसके बाद मौका देखकर फरार हो जाती हैं। ये अपने साथ रुपया, जेवर और दूसरी कीमती चीजें भी ले जाती हैं। अब तक कई युवक इनके खिलाफ मामला दर्ज करा चुके हैं।

फर्जी पहचान से शादी
ये दुल्हनें शादी के लिए अपना नाम और धर्म तक छुपाती हैं। एक युवक ने बताया कि सालभर पहले किसी जानकार के माध्यम से उसके पास रिश्ता आया था। उसने शादी कर ली। शादी के चार महीने बाद उसकी पत्नी जेवर, कीमती सामान, रुपया और कीमती कपड़े लेकर फरार हो गई। तब उसे मालूम हुआ कि वह ठगी का शिकार हो गया। उसने जब फोन पर संपर्क किया तो सभी नंबर बंद थे।

पत्नी ने डाला घर में डाका
इसी प्रकार नोएडा की एक जानीमानी कंपनी में सीनियर मैनेजर ने पश्चिम बंगाल की युवती से शादी की। दरअसल उनकी मुलाकात रोज दफ्तर जाते वक्त हुई थी। उन्हें यह पहली नजर का प्यार लगा और शादी का फैसला कर लिया, लेकिन बाद में पता चला कि यह उनकी सबसे बड़ी भूल थी। वे कारोबार के सिलसिले में विदेश गए। जब लौटकर आए तो घर पर ताला लगा हुआ था। ताला तोड़कर घर में दाखिल हुए तो मालूम हुआ कि पत्नी कीमती सामान, रुपया, जेवर वगैरह सबकुछ लेकर चली गई। अब वे पुलिस के चक्कर लगा रहे हैं और अपने फैसले पर पछता रहे हैं।

बचत का रुपया डूबा
एक अन्य युवक ने बताया कि मैट्रिमोनियल वेबसाइट पर उसकी मुलाकात किसी युवती से हुई थी। इसके बाद दोनों ने शादी कर ली। युवक अपने काम में बहुत व्यस्त रहता था। उसने पूरा घर अपनी पत्नी के भरोसे छोड़ रखा था। एक दिन मालूम हुआ कि वह उसकी बचत का लाखों रुपया लूटकर फरार हो गई।

बड़े शहरों में ऐसे कई मामले सामने आ चुके हैं। ये लुटेरी दुल्हन ऐसे युवकों को निशाना बनाती हैं जो नौकरी करते हैं और जिनके पास समय का अभाव रहता है। इसके बाद ये मौका पाकर लूट की वारदात को अंजाम देती हैं और फरार हो जाती हैं। इसलिए ब्याह-शादी जैसे मामलों में बेहद सावधानी बरतने की जरूरत है। किसी आकर्षण के वशीभूत होकर जल्दबाजी में लिया गया फैसला नुकसान पहुंचा सकता है।

ये भी पढ़िए:
– इस देश के एक हिस्से में दिन तो दूसरे में होती है रात, पुरुषों से ज्यादा है महिलाओं की तादाद
– सेक्युलर मोर्चे के तौर पर शिवपाल ने साधे कई निशाने, क्या सपा को होगा नुकसान?
– अमित शाह ने बांग्लादेशी घुसपैठियों को बताया दीमक, कहा- ‘चुन-चुनकर बाहर निकालेंगे’
– इटली के वो 4 कानून जिन्हें जानकर आप हैरान रह जाएंगे, न मानने पर पड़ जाते हैं लेने के देने

LEAVE A REPLY