नई दिल्ली। बीमा नियामक इरडा प्रमुख टीएस विजयन ने स्वास्थ्य बीमा क्षेत्र में लागत मानकीकरण की सोमवार को वकालत की। उन्होंने कहा कि लागत कम-से-कम स्थानीय या शहर के भीतर तुलनीय होनी चाहिए।उद्योग मंडल फिक्की के सालाना स्वास्थ्य बीमा सम्मेलन में भारतीय बीमा नियामक एवं विकास प्राधिकरण (इरडा) के चेयरमैन विजयन ने कहा, स्वास्थ्य बीमा क्षेत्र में लागत मानकीकरण की जरूरत है…कम-से-कम अस्पतालों के स्तर पर यह होना चाहिए। अगर किसी अस्पताल में कोई व्यवस्था है तो उसी शहर में दूसरे अस्पतालों के साथ यह तुलनीय होनी चाहिए। उन्होंने पालिसी की व्यापक पहुंच को लेकर उसके सरल और सस्ता होने पर भी जोर दिया ताकि इसकी पहुंच ब़ढ सके और जरूरतमंद तथा इस प्रकार की पालिसी से वंचित इसके दायरे में आ सके।विजयन ने कहा कि सरकार स्वास्थ्य बीमा को प्रोत्साहित कर रही है और इसमें उल्लेखनीय ब़ढोतरी होनी है। इसका कारण स्वास्थ्य देखभाल समाज के हर तबके में पहुंचना चाहिए और समावेशी होना चाहिए। उन्होंने कहा कि देश में स्वास्थ्य देखभाल पर खर्च काफी अधिक है और इसको देखते हुए स्वास्थ्य बीमा से जु़डी कंपनियों के लिए इसमें काफी अवसर है।

LEAVE A REPLY