पपीता खाने में जितना टेस्टी होता है, उतना ही हेल्दी भी। साथ ही इसमें ऐसे तत्व मौजूद होते हैं जो कई सारी बीमारियों में इलाज के तौर पर भी इस्तेमाल किए जाते हैं। कच्चे पपीते में विटामिन ’’ए और सी‘ भरपूर मात्रा में होते हैं। यह गर्मियों में शरीर को ठंडक पहुंचाने के लिए खाया जाता है। पपीते का जूस, इसका गूदा, इसके बीज सबकुछ बहुत ही लाभदायक होते हैं। आजकल फ्रूट चाट के तौर पर भी पपीते का इस्तेमाल किया जा रहा है। पपीता पाचन संबंधी दिक्कतों को दूर करने के साथ ही पीलिया, हार्निया, फर्टिलिटी ब़ढाने, हार्ट और कोलेस्ट्रॉल के रोगियों के लिए भी बहुत ही फायदेमंद होता है। पपीते में छिपे गुणों के बारे में जानें :-Žध्ठ्ठण झ्श्नष्ठप्रय्द्य ·ैंर्ैंट्टुह्ध् ·द्द ्यध्ॅपपीता हाई ब्लड प्रेशर के रोगियों के लिए बेहद फायदेमंद होता है, क्योंकि इसमें कारपेन या कार्पेइनज नामक एक अम्लीय तत्व मौजूद होता है जो ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करता है। ब्लड प्रेशर की शिकायत होने पर रोजाना एक पपीता (कच्चा) का सेवन कारगर होता है।्यख्रध् ·द्द द्बद्यर्‍ज्ह्र ·द्द ्यध्ॅदिल के रोगियों के लिए भी पपीता बहुत ही फायदेमंद होता है। पपीते के पत्तों का का़ढा बनाकर रोजाना एक कप पीने से तुरंत इसके प्रभाव दिखने लगते हैं।झ्र्‍्यध्द्भय् ब्ह्द्मष्ठ झ्द्यपीलिया रोग में लिवर बहुत कमजोर हो जाता है और उसके काम करने की क्षमता बहुत हद तक कम हो जाती है जिससे इम्यूनिटी पर असर प़डता है। इसलिए लिवर को ध्यान रखना भी शरीर के बाहरी अंगों जितना ही जरूरी है। पीलिया रोग में रोजाना एक पका पपीता अवश्य खाना चाहिए। इससे पाचन सही रहता है, साथ ही रोग से भी छुटकारा मिलता है।क्वरूद्धफ्रूद्यत्र घ्ष्ठब्द्यष्ठ ृय्स्द्य द्वय्रु्यद्यश्चद्भह्र ·द्द ्यध्ॅखूबसूरती ब़ढाने के के लिए भी पपीते का इस्तेमाल किया जाता है। पपीते को चेहरे पर रग़डने से त्वचा से संबंधित कई प्रकार की समस्याएं दूर होती हैं। हफ्ते में दो से तीन बार चेहरे पर इसके इस्तेमाल से त्वचा दमकने लगती है। आजकल बाजार में उपलब्ध कई सारे ब्यूटी प्रोडक्ट्स में भी पपीते का भरपूर इस्तेमाल किया जा रहा है।ॅैंट्टर्‍-ॅ्यज्ैंख् ·द्द ्यध्ॅसमय से पहले चेहरे पर झुर्रियां आना बु़ढापे की निशानी है। महिलाओं में इस चीज की सबसे ज्यादा समस्या देखी जाती है। इसे दूर करने के लिए पके हुए पपीते के गूदे को उबटन की तरह चेहरे पर लगाएं और लगभग आधा घंटा लगा रहने दें। सूखने पर गुनगुने पानी से चेहरा धो लें। एक महीने तक लगातार ऐसा करके त्वचा को लंबे समय तक जवां रखा जा सकता है।·र्ैंŽज् ृय्स्द्य द्धप्य्फ्र्‍द्य ·द्द ्यध्ॅकब्ज व बावासीर जैसी समस्याएं भी पपीता खाकर दूर की जा सकती हैं। इसके लिए रोजाना एक पका पपीता खाना चाहिए। बवासीर के मस्सों पर कच्चे पपीते के दूध को लगाना काफी फायदा पहुंचाएगा।द्बय्यफ्·र्ैं थ्द्बश्च ्यद्मद्भ्यद्बत्र द्यब्त्रय् ब्स्मासिक धर्म में जिन महिलाओं को ज्यादा परेशानी होती है या जिनका मासिक धर्म अनियमित होता है, उन्हें २५० ग्राम पके हुए पपीते का सेवन एक महीने तक रोजाना करना चाहिए। इससे मासिक धर्म से संबंधित लगभग सभी परेशानियां दूर हो जाती हैं।·र्ैंद्बज्ह्द्यर्‍ ख्ररूद्य ·र्ैंद्यद्मष्ठ ·द्द ्यध्ॅपपीता कमजोरी दूर करने के लिए भी उपयोग में लाया जाता है। कमजोर लोगों को एक पपीता रोजाना खाना चाहिए। यह पौरुषत्व को ब़ढाता है, साथ ही उन्हें अंदुरूनी तौर पर भी स्ट्रॉन्ग बनाता है।

LEAVE A REPLY