बेंगलूरु। दक्षिण भारत के चार साहित्यकारों को कमला गोइन्का फाउण्डेशन के पुरस्कारों की घोषणा सोमवार को की गई। प्रबंध न्यासी श्यामसुन्दर गोइन्का ने बताया कि इक्कीस हजार रूपये की राशि का ‘ गोपीराम गोइन्का हिन्दी-कन्ऩड अनुवाद पुरस्कार‘ इस वर्ष जितेन्द्रनाथ सान्याल की मूल कृति ‘अमर शहीद सरदार भगतसिंह‘ की कन्ऩड में अनूदित पुस्तक ‘अमर हुतात्मा सरदार भगतसिंह‘ के लिए बेंगलूरु निवासी डॉ. टी.जी. प्रभाशंकर प्रेमी को, इक्कीस हजार रूपये की राशि का ‘बालकृष्ण गोइन्का अनूदित साहित्य पुरस्कार‘ इस वर्ष डॉ. एम बालसुब्रह्मण्यन की मूल तमिल कृति ‘भारतीय साहित्य के निर्माता कवि कण्णदासन‘ को हिन्दी में अनुवाद के लिए चेन्नई निवासी डॉ. पि.के बालसुब्रह्मण्यन को तथा इक्कीस हजार रूपये की राशि का ‘सत्यनारायण गोइन्का अनूदित साहित्य पुरस्कार‘ इस वर्ष तुलसीदास द्वारा रचित ‘रामचरित मानस‘ को मलयालम में पद्यानुवाद के लिए तिरूवनन्तपुरम निवासी डॉ. सी.जी. राजगोपाल को व इक्कीस हजार रूपये की राशि का ‘बाबूलाल गोइन्का हिन्दी साहित्य पुरस्कार‘ इस वर्ष कोच्चि निवासी डॉ. के. वनजा को उनकी मूल हिन्दी कृति ‘इको-फैमिनि़ज्म‘ के लिए दिया जायेगा।गोइन्का के मुताबिक शीघ्र ही शहर में आयोजित एक विशेष समारोह में चयनित साहित्यकारों को पुरस्कृत किया जायेगा।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY