श्रीनगर। जम्मू कश्मीर के सुंजवान सैन्य शिविर में हुए आतंकी हमले के बाद सोमवार को रक्षा मंत्री स्थिति का जायजा लेने जम्मू-कश्मीर पहुंचीं। हालात का जायजा लेने के बाद रक्षा मंत्री ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि हमले के पीछे आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद और उसके सरगना मसूद अजहर का हाथ है। उन्होंने कहा कि मसूद अजहर ने हमले के लिए आतंकियों को पाकिस्तान से भेजा था। रक्षा मंत्री ने कहा कि पाकिस्तान को इस हमले के सबूत भी देंगे और जवाब भी। रक्षा मंत्री ने कहा कि जवानों की शहादत बेकार नहीं जाएगी। उन्होंने जोर देकर कहा कि पाकिस्तान को इस करतूत की कीमत चुकानी प़डेगी। रक्षा मंत्री ने कहा कि घटना स्थल पर आतंकवादियों के पास से बरामद सामान और दस्तावेजों से साफ हो गया है कि सभी आतंकी पाकिस्तानी थे और उनका संपर्क जैश से था। रक्षा मंत्री ने बताया कि सुंजवान ऑपरेशन खत्म हो चुका है। उन्होंने कहा कि आतंकी कुछ दिन पहले ही घुसपैठ करके सेना की वर्दी में जम्मू में दाखिल हुए थे। रक्षा मंत्री ने बताया कि सेना द्वारा ३६ घंटे तक चलाए गए ऑपरेशन के दौरान तीन आतंकी मारे गए। हालांकि इस दौरान पांच जवान शहीद हो गए और एक आम नागरिक की भी मौत हो गई। हमले में छह महिलाएं सहित १० आम नागरिक घायल भी हुए थे।

के करण नगर इलाके में सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच जारी मुठभे़ड में सीआरपीएफ का एक जवान शहीद हो गया। केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल के शिविर पर सोमवार सुबह आतंकवादी हमले का प्रयास विफल किए जाने के बाद से सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच हुई मुठभे़ड में अर्द्धसैनिक बल का एक जवान शहीद हो गया। लश्कर-ए-तैयबा ने सीआरपीएफ के शिविर पर हमले की जिम्मेदारी ली है। कश्मीर में इस आतंकी संगठन के सरगना ने ईमेल के जरिये जारी बयान में कहा कि उसके लोगों ने हमले को अंजाम दिया।जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों के हमलों और सीमापार से लगातार हो रही गोलाबारी में सैनिकों और नागरिकों के मारे जाने से व्यथित मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा है कि यदि हम खून-खराबा रोकना चाहते हैं तो पाकिस्तान के साथ बातचीत जरूरी है। सुश्री मुफ्ती ने ट्वीट कर कहा, यदि हम खून-खराबा खत्म करना चाहते हैं तो पाकिस्तान के साथ बातचीत किया जाना जरूरी है। उन्होंने कहा, मैं जानती हूं कि आज रात समाचार चैनलों के न्यूज ऐंकर मुझ पर राष्ट्रविरोधी होने का लेबल लगा देंगे लेकिन इसका कोई मतलब नहीं है, जम्मू-कश्मीर की जनता पीि़डत है। चूंकि युद्ध कोई विकल्प नहीं है, हमें बातचीत करनी चाहिए।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY