इन 12 स्कूलों में छह तो सिर्फ लड़कियों के ही स्कूल हैं, जिन्हें खासतौर पर निशाना बनाया गया है। यहां आग लगाने से पहले फर्नीचर, किताबें आदि सामान बिखेर दिया गया और स्कूल की इमारत को खासा नुकसान पहुंचाने की कोशिश की गई। उसके बाद आग लगा दी गई।

गिलगित। पाकिस्तान में इमरान खान के प्रधानमंत्री बनने के चर्चे हैं, इससे पहले ही वहां बड़ी तादाद में स्कूलों को निशाना बनाया गया है। स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, कम से कम 12 स्कूलों को आग लगा दी गई है। ये घटनाएं यहां के दियामर जिले में गुरुवार देर रात को हुई हैं। आग लगाने वाले के बारे में अभी पुख्ता जानकारी नहीं मिली है। इस संबंध में अभी कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है।

इन 12 स्कूलों में छह तो सिर्फ लड़कियों के ही स्कूल हैं, जिन्हें खासतौर पर निशाना बनाया गया है। यहां आग लगाने से पहले फर्नीचर, किताबें आदि सामान बिखेर दिया गया और स्कूल की इमारत को खासा नुकसान पहुंचाने की कोशिश की गई। उसके बाद आग लगा दी गई।

जब स्कूलों से धुआं और लपटें उठने लगीं तो आसपास के लोग बुझाने पहुंचे। सूचना देने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची। अब तक किसी ने इस घटना की जिम्मेदारी नहीं ली है। हालांकि इस संबंध में आतंकी संगठनों पर शक जताया जा रहा है। ऐसी ही घटनाएं स्वात में हो चुकी हैं। वहां तालिबान स्कूलों में बम धमाके कर उन्हें नुकसान पहुंचा चुका है। खासतौर पर लड़कियों के स्कूल तो पूरी तरह ध्वस्त ​कर दिए थे। तालिबान उस इलाके पर अपना नियंत्रण चाहता था। उसकी मांग थी कि वहां लोकतंत्र के बजाय शरियत लागू की जाए। बाद में तालिबान ने शिक्षा के क्षेत्र में काम करने वाली किशोरी मलाला यूसुफजई को गोली मार दी थी। हालांकि वह बच गईं और उन्हें नोबेल पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया।

अब गिलगित में वैसी ही घटनाओं की पुनरावृत्ति होने से लोगों में खौफ है कि कहीं तालिबान फिर न आ गया हो। स्कूलों को आग लगाने की इस घटना के बाद स्थानीय लोगों ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया है। पुलिस इस मामले की जांच कर रही है लेकिन अभी तक उसके हाथ खाली हैं। इस समय जब इमरान खान मुल्क के नए वज़ीरे-आज़म बनने की तैयारी कर रहे हैं और उन्होंने ‘नया पाकिस्तान’ बनाने का वादा किया, अब देखना यह होगा कि उनके राज में आतंकियों पर क्या कार्रवाई की जाएगी।

जरूर पढ़ें:
– औरंगजेब की मौत का बदला लेने के लिए 50 युवाओं ने छोड़ी विदेशी नौकरी, सेना में होंगे भर्ती
– रोहिंग्या और बांग्लादेशी घुसपैठ के बाद देश में उठ रही मांग- ‘दो बच्चों का सख्त कानून लागू करे सरकार’
– शत्रुघ्न सिन्हा जैसी शक्ल बनी इस शख्स के लिए मुसीबत, लगा रहा अदालतों के चक्कर!

Facebook Comments

LEAVE A REPLY